जागरण संवाददाता, हरिद्वार:  Ankita Murder Case: अंकिता हत्याकांड में हर तरफ से आरोपितों को फांसी देने की मांग के बीच पुल्कित के पिता डा. विनोद आर्या की नजर में उनका बेटा बेकसूर है। मीडिया से बातचीत में उन्होंने अपने बेटे को सीधा-साधा बालक बताया।

हत्याकांड को लेकर प्रदेश में उबाल

अंकिता हत्याकांड को लेकर पूरे प्रदेश में उबाल है। अभी तक की पुलिस जांच में यह साफ हो गया है कि पुल्कित व उसके सहयोगियों ने अंकिता पर रिसोर्ट में गलत गतिविधियों में शामिल होने का दबाव बनाया और इन्कार करने पर भेद खुलने के डर से उसे नहर में फेंककर हत्या कर दी।

  • यह भी स्पष्ट हो गया है कि अपने गुनाह को छिपाने के लिए उन्होंने झूठी कहानी बनाकर कैसे राजस्व पुलिस और पुलिस को गुमराह किया।

पहले कहा - पुल्कित आर्या उनका बेटा था

शनिवार को घर से निकलकर जाने के दौरान मीडियाकर्मियों के घेरने पर विनोद आर्या ने पहले तो यह कहकर पल्ला झाड़ने का प्रयास किया कि पुल्कित आर्या उनका बेटा था, लेकिन वह पिछले कुछ दिन से अलग रहता आ रहा है।

पिता विनोद आर्या अब बेटे के बचाव में उतरे

मीडियाकर्मियों के सवालों का सिलसिला आगे बढ़ा तो विनोद आर्या बेटे के बचाव में उतर आए। उन्होंने कहा कि वे जिम्मेदार लोग हैं। इसलिए निष्पक्ष जांच के लिए उन्होंने शुक्रवार को ही अपना इस्तीफा दे दिया था। अब जांच में पूरा सहयोग करेंगे। पूरे मामले का दूध का दूध और पानी का पानी होना चाहिए।

Ankita Murder Case: अंकिता भंडारी पढ़ने में थी होनहार, 12वीं में 88 प्रतिशत अंकों के साथ किया था टाप

घर और शोरूम पर लटका ताला

हरिद्वार: विरोध प्रदर्शन का सिलसिला तेज होने पर विनोद आर्या का परिवार ज्वालापुर आर्यनगर क्षेत्र स्थित अपने घर से कहीं सुरक्षित जगह चला गया है। दरअसल, शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके घर के बाहर विरोध प्रदर्शन किया था। शनिवार को पहाड़ी महासभा ने भी विनोद आर्या के घर से अपने पैदल मार्च की शुरुआत की।

  • घर पर पुलिस सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। शायद यही वजह है कि परिवार ने घर और शोरूम बंद करने में ही भलाई समझी है।

Ankita Murder Case: नहर में डूबने से पहले छटपटाती रही अंकिता, कहती रही मुझे बचा लो, पर हत्यारे छलकाते रहे जाम

पैमाईश के लिए पहुंची सयुंक्त टीम

हरिद्वार: अंकिता हत्याकांड में पुल्कित के पिता और भाई को भाजपा से निष्कासित किए जाने के बाद शिकंजा और ज्यादा कसने की तैयारी शुरू हो गई। शनिवार को नगर निगम, एचआरडीए और तहसील की एक संयुक्ट टीम विनोद आर्या के घर के पास पहुंची।

  • टीम ने घर व शोरूम के आसपास सड़क की पैमाइश की। हालांकि टीम न तो अंदर घर में गई और न किसी से कोई पूछताछ की। जबकि, इस दौरान विनोद आर्या अपने घर में ही मौजूद थे।
  • टीम के जाने के बाद विनोद आर्या ने मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि पैमाइश या कार्रवाई के बारे में प्रशासन बता सकता है।

यदि हमने कुछ गलत किया है तो प्रशासन अपना काम करे। वहीं, इस मामले में तहसीलदार दयाराम का कहना है कि टीम ज्वालापुर क्षेत्र में रास्ते पर कब्जे की शिकायत पर पैमाइश करने गई थी, न कि विनोद आर्या के घर।

Ankita Murder Case: एम्‍स ऋषिकेश में हुआ पोस्टमार्टम, रिपोर्ट को लेकर भीड़ ने रोकी एंबुलेंस; देखें वीडियो

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट