हरिद्वार, [जेएनएन]: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संतों को मोदी सरकार की उपलब्धियां गिना उनसे लोकसभा चुनाव-2019 के लिए आर्शीवाद लिया। अपने सवा घंटे के दौरे में उन्होंने गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुंच अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख डा. प्रणव पंड्या और शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैल जीजी से मुलाकात आर्शीवाद लिया तो भारत माता जनहित ट्रस्ट मुख्यालय पहुंचकर भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वमी सत्यमित्रानंद गिरि और श्रीपंचदशनाम् जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि के समक्ष सरकार की उपलब्धियां गिनाई, उन्हें सरकार की उपलब्धियों और भविष्य की योजनाओं पर आधारित 'साफ नीयत, सही विकास' पुस्तक भेंट की। अमित शाह रविवार सुबह भाजपा के 'समर्थन के लिए संपर्क' अभियान के तहत हरिद्वार पहुंचे थे, उनके साथ राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडेय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, भाजपा जिलाध्यक्ष डा. जयपाल सिंह व निवर्तमान नगर प्रमुख मनोज गर्ग भी मौजूद थे। 

भाजपा अध्यक्ष रविवार करीब सवा ग्यारह बजे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुंचे, उन्होंने वहां सबसे पहले शांतिकुंज के संस्थापक पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य और माता भगवती के समाधि स्थल पर पुष्प सुमन अर्पित कर माथा टेका, उसके बाद बैटरी रिक्शा से शांतिकुंज का भ्रमण किया। शाह के शांतिकुंज भ्रमण के दौरान वहां बड़ी संख्या में मौजूद अंत:वासियों और गायत्री परिवार साधकों ने भारत माता की जय और पुष्प वर्षा कर उनका अभिनंदन किया। भ्रमण के बाद अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुखिया डा. प्रणव पंड्या व शैल जीजी से मुलाकात करने ङ्क्षचतन-मनन कक्ष में पहुंचे। 

वहां उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत, कबीना मंत्री मदन कौशिक और पार्टी पदाधिकारियों संग करीब बीस मिनट बंद कमरे में वार्ता की। इस दौरान उन्होंने डा. प्रणव पंड्या से शांतिकुंज के कार्यों, उनके साधकों की संख्या और भविष्य की योजनाओं पर चर्चा की। साथ ही मोदी सरकार की चार वर्षों के कार्यों, उपलब्धियों व भविष्य की योजनाओं का ब्यौरा देते हुए लोकसभा चुनाव-2019 के समर्थन व आर्शीवाद मांगा। डा. प्रणव पंड्या और शैल जीजी  ने मोदी सरकार के कार्यों की प्रशंसा की, उन्हें उनका सहयोग करने का आश्वासन दिया। 

यहां से निकलने के बाद भाजपा अमित शाह हरिपुरकलां स्थित भारत माता जनहित ट्रस्ट के मुख्यालय और भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि के आवास पर पहुंचे। वहां पर उन्होंने सत्यमित्रनंद गिरि और श्रीपंचदशनाम् जूना अखाडणा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि से अकेले में करीब 25 मिनट वार्ता की। उन्होंने संतद्वय से केंद्र सरकार के जनहित और विकास के लिए किए गए कार्यों विशेष कर आर्थिक सुधारों के कार्यों पर विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि और स्वामी अवधेशानंद गिरि ने उन्हें अपना स्नेहाशीष प्रदान करते हुए जनहित और राष्ट्रहित में पूरी निष्ठा, लगन और इमानदारी से कार्य करने का आर्शीवाद प्रदान किया। इसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का काफिला करीब साढ़े बारह बजे देहरादून के लिए रवाना हो गया।

वार्ता में स्थानीय पदाधिकारियों बैठने की नहीं दी अनुमति

समर्थन के संपर्क अभियान में संतों के मुलाकात करने हरिद्वार पहुंचे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संतों के साथ एकांत में हुई बैठक में स्थानीय पदाधिकारियों को बैठने की अनुमति नहीं दी। बैठक में मुख्यमंत्री के अलावा केवल राष्ट्रीय और प्रदेश पदाधिकारियों को शामिल रहने की अनुमति थी। इसलिए जो स्थानीय पदाधिकारी उनके साथ अंदर पहुंच गए थे, वह बाद में बाहर आ गए। इसकी पुष्टि बैठक स्थल से बाहर घूम रहे भाजपा जिलाध्यक्ष डा. जयपाल सिंह ने की, पूछे जाने पर उन्होंने कहाकि स्थानीय पदाधिकारयों को बैठक में शामिल होने की अनुमति नहीं है।

पत्रकारों से नहीं की वार्ता

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अपने हरिद्वार दौरे में हो जगहों शांतिकुंज और भारत माता जनहित ट्रस्ट गए पर उन्होंने दोनों ही जगह न तो पत्रकारों से कोई वार्ता की और न ही उनके प्रश्नों का कोई जवाब दिया। पूछे जाने पर साफ इंकार करते हुए कहाकि यह उनका निजी दौरा है, कोई सवाल-जवाब नहीं।

स्वागत से किया परहेज

अपने दौरे के दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने स्वागत से पूरी तरह परहेज रखा, उनके इस रूख के चलते उनके स्वागत के लिए फूल-मालाएं लिए सुबह से तैयार रहे भाजपा कार्यकर्ता में मायूस नजर आए।

शाह का जीत का गुरु मंत्र 

वहीं, बीजापुर गेस्ट हाउस पहुंचकर बीजेपी राष्टीय अध्यक्ष अमित शाह ने पूर्णकालिक विधानसभा विस्तारकोंं की बैठक ली। जिसमें उन्होंने विस्तारकों को बूथ जीते तो चुनाव जीते का मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि हर बूथ में 40 से 50 वोटर पर एक पन्ना प्रमुख बनाया जाए। विस्तारकों ने विधानसभा सीटों पर गुटबाजी की बात भी उनके सामने रखी। जिसपर राष्ट्रीय अध्यक्ष ने समन्वय बनाने पर जोर दिया। 

सोशल मीडिया पर विपक्ष के हमलों का दें आक्रामक तरीके से जवाब 

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का फोकस सोश मीडिया पर भी रहा। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर विपक्ष के हमलों के जवाब में हमें भी आक्रामक रुख अख्तियार करना होगा। उन्होंने कहा कि ये भी बेहद जरूरी है कि सोशल मीडिया पर सक्रिय रहा जाए। 

यह भी पढ़ें: हरीश रावत का वर्ष 2019 के चुनावी समर में उतरने का ऐलान

यह भी पढ़ें: सांसद अनिल बलूनी बोले, राजनीति से खत्म करना होगा वीआइपी कल्चर