देहरादून, जेएनएन। दूसरी कक्षा में पढ़ रहे अथर्व को भी संकट की इस घड़ी में सहयोग की महत्ता का ज्ञान है। अथर्व ने कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में सहयोग करते हुए अपनी गुल्लक में जमा रकम राहत कोष में दान कर दी। जिस पर प्रशासन ने उसे कोरोना वॉरियर ऑफ द डे चुना। बड़े होकर अथर्व गुरुंग आइएएस ऑफिसर बनना चाहता है, इसीलिए डीएम से मुलाकात के दौरान उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

प्रशासन की ओर से कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में किसी भी रूप में सहयोग कर रहे व्यक्तियों और संस्थाओं को सम्मानित किया जा रहा है। दूसरी कक्षा के बच्चे अथर्व गुरुंग को कोरोना वॉरियर के सम्मान से नवाजा गया। अथर्व ने अपने गुल्लक की राशि राहत कोष में प्रदान की है। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने जब अथर्व को सम्मानित किया तो वह फूला नहीं समाया। अथर्व ने डीएम को बताया कि वह बड़ा होकर आइएएस बनना चाहता है और देश सेवा करना चाहता। जिस पर डीएम ने उसे शुभकामनाएं दीं।

इनके सहयोग को मिला सम्मान

लॉकडाउन अवधि में सिविल सोसायटी व शासकीय विभागों की ओर से किए जा रहे सहयोग के लिए दो कोरोना वॉरियर चुने गए। जिसमें सिविल सोसायटी से गुरुद्वारा गोविंदनगर रेसकोर्स को लॉकडाउन अवधि में निराश्रित व्यक्तियों को भोजन व खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने पर कोरोना वॉरियर चुना गया। वहीं, शासकीय विभाग से ग्राम पंचायत विकास अधिकारी कृपाराम जोशी को अपने दायित्वों का निष्ठा के साथ निर्वहन करने पर यह सम्मान मिला।

मदद के लिए बढ़ाए हाथ

कोरोना वायरस से फैली महामारी के बीच बीएफआईटी ने जरूरतमंदों की मदद को हाथ बढ़ाए हैं। संस्थान ने सुद्धोवाला स्थित मजदूर परिवारों को राशन बांटा। संस्थान के चेयरमैन जोगिंदर सिंह अरोड़ा ने बताया कि संस्थान की ओर से मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री केयर फंड में भी वित्तीय सहायता की जा चुकी है। चैतन्य गौड़ीय मठ की सहायता से विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने यमुना कॉलोनी स्थित सैयद मोहल्ला में 50 गरीब एवं निर्धन लोगों को कच्चा राशन वितरित किया।

युकां ने बांटे मास्क

युवा कांग्रेस ने दून के सभी विधानसभा क्षेत्रों में तीन दिन में तीन हजार लोगों को मास्क वितरित किए। जिला अध्यक्ष भूपेंद्र नेगी ने बताया कि युकां शहर की बस्तियों में मास्क वितरण करने के साथ लोगों को मास्क पहनने और अपने आसपास सफाई रखने के लिए जागरूक कर रही है।

यह भी पढ़ें: coronavirus से अबतक कैसे लड़ी गई जंग और क्या रहीं चुनौतियां, जानें डॉ. आशुतोष की जुबानी

ओपो ने दी 1.20 लाख की खाद्य सामग्री

ओपो मोबाइल उत्तराखंड के रीजनल मैनेजर नसीब राजपुत ने लोकजीत सिंह पुलिस अधीक्षक मुख्यालय से मुलाकात कर उन्हें 1 लाख 20 हजार रुपये की खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई।

यह भी पढ़ें: डीआइजी की कलम से: आइसोलेशन की अनिवार्यता में मानवीय मूल्यों को सहेजने का प्रयास

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस