देहरादून, [जेएनएन]: विभिन्न मंगों को लेकर 29 जनवरी से हड़ताल का नोटिस दे चुके रोडवेज कर्मचारियों की वार्ता शनिवार देर रात प्रबंधन से विफल हो गयी। कर्मचारियों ने रविवार दोपहर बाद से डीलक्स डिपो की बसों के पहिये रोकने का एलान किया है। इससे देहरादून से संचालित वाल्वो, वातानुकूलित और सेमी डीलक्स बसों के यात्रियों को मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। 

उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन ने बीती 15 जनवरी को एजीएम डीलक्स डिपो को आंदोलन का नोटिस दिया था। डिपो में चालक-परिचालको के साथ दुर्व्यवहार बन्द करने, डयूटी चार्ट में निष्पक्ष ड्यूटी लगाने, खटारा बसों को रुट से हटाने, दुर्घटना के नाम पर चालकों का उत्पीड़न बन्द करने समेत 11 सूत्री मांगपत्र दिया गया था। मांगें ना माने जाने पर यूनियन आंदोलन पर अड़ी हुई थी। यूनियन ने 28-29 जनवरी की मध्य रात्रि से सामूहिक अवकाश पर जाने का एलान किया था। इसी क्रम में प्रबंधन ने गुरुवार को भी यूनियन से वार्ता की थी, लेकिन वार्ता विफल रही। 

शनिवार देर रात एजीएम डीलक्स डिपो ने आईएसबीटी पर फिर समझौता वार्ता बुलाई। यूनियन के प्रदेश महामंत्री अशोक चौधरी, संयुक्त मंत्री केपी सिंह, डीलक्स डिपो महामंत्री संदीप चौधरी समेत प्रमुख कर्मचारी नेताओ की प्रबंधन से वार्ता हुई। वार्ता देर रात 11 बजे तक चली, लेकिन आखिर में वार्ता विफल हो गयी। अब यूनियन ने रविवार दोपहर बाद से कर्मचारियों के सामूहिक अवकाश का एलान कर दिया है।

यूनियन के डीलक्स डिपो में 176 चालक-परिचालक हैं। ऐसे में रविवार दोपहर से दून से दिल्ली, आगरा, चंडीगढ़, धर्मशाला, कटरा, जयपुर, फरीदाबाद, गुड़गांव, हल्द्वानी आदि के लिए संचालित  डीलक्स बसों का संचालन 90 फीसद ठप पड़ सकता है। सबसे ज्यादा दिक्कत ऑनलाइन टिकट बुक करा चुके यात्रियों को होगी। रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि बसों के संचालन के  लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जा रही है। यात्रियों को किसी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: अब यहां छात्रों की बस पास सुविधा होगी बंद, जानिए क्यों

य‍ह भी पढ़ें: बिना परमिट उत्तराखंड में नहीं चल पाएंगी दूसरे राज्यों की रोडवेज बसें

यह भी पढ़ें: राज्य गठन के 17 साल बाद बस पहुंची तो झूम उठे ग्रामीण 

Posted By: Sunil Negi