देहरादून, जेएनएन। छह दिन तक राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर की नाट्य प्रस्तुतियों से समां बांधने व उत्तराखंड की संस्कृति के दर्शन के साथ 21वां भारत रंग महोत्सव संपन्न हो गया। महोत्सव के अंतिम दिन बंगाली नाटक 'नासिका पुराण' की प्रस्तुति ने मित्रता की महत्ता बताई। इस दौरान पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियों को सराहा।

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय नई दिल्ली और संस्कृति विभाग उत्तराखंड के संयुक्त तत्वावधान में सात फरवरी से 12 फरवरी तक 21वें भारत रंग महोत्सव के समानांतर नाट्य महोत्सव का आयोजन किया गया। बंगाली नाटक नासिका पुराण के साथ महोत्सव संपन्न हुआ। 

नासिका पुराण के लेखक अशोक मुखोपाध्याय, निर्देशक बिप्लब बंद्योपाध्याय हैं। जबकि कलाकारों का समूह मिनर्वा रेपर्टरी कोलकाला था। ढाई घंटे का यह प्ले बंगाली भाषा में था। महोत्सव के दौरान दर्शकों को अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता के नाटकों को देखने, जानने व समझने का मौका मिला।

इससे पहले संस्कृति निदेशालय के ऑडिटोरियम में उत्तराखंड की लोक-कलाओं से रूबरू कराया गया। जिसमें पांडव नृत्य, महासू वंदना, नाटी, तांदी, बाजूबंद, 52 गढ़ आदि लोक नृत्य व गायन प्रस्तुत किए गए। मीट द डायरेक्टर कार्यक्रम का संचालन सुप्रसिद्ध रंगकर्मी श्रीश डोभाल और महोत्सव के प्रभारी डॉ. सुवर्ण रावत ने किया। 

महोत्सव के समापन पर मुख्य अतिथि के तौर पर संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने आयोजन की सराहना करते हुए कलाकारों को भी शुभकामनाएं दीं। पर्यटन मंत्री ने प्रसिद्ध रंगकर्मियों डीआर पुरोहित, एसपी ममगाईं, अविनंदा, अतुल बिश्नोई, ज्योतिष घिल्डियाल, रोशन धस्माना, प्रसिद्ध साहित्यकार सुशील शर्मा, महावीर रवांल्टा और दूरदर्शन के निदेशक सुभाष चंद्र थलेड़ी को सम्मानित किया।

रंगारंग कार्यक्रम के साथ छात्रों को दी विदाई

दून भवानी इंटरनेशनल विद्यालय सीबीएसई बोर्ड बारहवीं कक्षा के छात्र छात्राओं के विदाई समारोह में सांस्कृतिक प्रस्तुतियों ने मन मोह लिया। दून भवानी इंटरनेशनल स्कूल धम्मूवाला बड़कोट (रानीपोखरी) में आयोजित विदाई समारोह में विद्यालय के निदेशक बीपी उनियाल ने कहा कि छात्र-छात्राएं हमारे राष्ट्र का भविष्य है। शिक्षा व अध्ययन के माध्यम से आगे चलकर युवा राष्ट्र के विकास में अपना अहम योगदान दें सकते हैं।

यह भी पढ़ें: गंगा से मांगा धारावाहिक कुर्बान हुआ के लिए आशीष Dehradun News

प्रधानाचार्य पुष्पा उनियाल ने भी बारहवीं कक्षा के सभी छात्र छात्राओं को आगामी परीक्षा की शुभकामना दी। समारोह में जूनियर छात्र छात्राओं ने सांस्कृतिक, रंगारंग व देशभक्ति के कार्यक्रमों की प्रस्तुतियों के माध्यम से सीनियर छात्र छात्राओं को भावभीनी विदाई दी।

यह भी पढ़ें: डर को हराकर ही मिलती है मनुष्य के जीवन में जीत Dehradun News

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस