देहरादून, जेएनएन। थाना सहसपुर के बेलोवाला गांव में युवक ने लाइसेंसी पिस्टल से पहले अपनी मां की हत्या कर फिर खुद को गोली मारने के मामले को पुलिस ने जीडी में दर्ज कर लिया और जांच शुरू कर दी है। पुलिस पहले मृतकों के रिश्तेदारों से तहरीर लेना चाह रही थी, लेकिन नाते रिश्तेदारों के अंतिम संस्कार में हरिद्वार जाने के कारण पुलिस ने मामले को जीडी में दर्ज किया। 

पुलिस इस सनसनीखेज कांड के हर पहलू की जांच कर रही है। इसमें यह तक देखा जा रहा है कि कहीं पूरा घटनाक्रम किसी साजिश का हिस्सा तो नहीं। वहीं मंगलवार की देर रात पुलिस ने पंचनामा व पोस्टमार्टम की कार्रवाई के बाद शव रिश्तेदारों को सौंप दिए थे।

बता दें कि हरियाणा के ट्रांसपोर्ट कमिश्नर रहे सुभाष शर्मा के पुत्र जय पंडित अपनी करीब 70 वर्षीय मां सुशीला देवी के साथ डूंगा पंचायत के बेलोवाला गांव में रहते थे। 25 फरवरी की सुबह करीब आठ बजे जय पंडित ने दोस्त को फ्रेश होने के लिए ऊपरी मंजिल के कमरे में भेज दिया और बाहर से कुंडी लगा दी। 

वहीं घर के पुराने नौकर कृष्णा को कुछ देर के लिए बाहर जाने को कहा और घर के दरवाजे पर ताला लगाकर बेड पर बैठी मां सुशीला देवी की पहले सिर के पीछे गोली मारकर हत्या कर दी। उसके बाद उसने अपनी कनपटी पर लाइसेंसी पिस्टल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। सनसनीखेज मामला बुधवार को भी चर्चा का विषय बना रहा। 

पुलिस ने विकासनगर मोर्चरी में शवों का पंचनामा व पोस्टमार्टम की कार्रवाई करायी। रिश्तेदार देर रात शव बेलोवाला स्थित घर लेकर पहुंचे। नाते रिश्तेदारों की ओर से कोई तहरीर न आने पर पुलिस ने पूरे मामले को जीडी में दर्ज कर विधिवत जांच शुरू की। कोतवाल राजीव रौथान के अनुसार मामले की जांच की जा रही है। इस मामले में अभी तक कुछ नया नहीं निकला है। 

जांच में अभी तक यही आया कि जय पंडित शराब व चरस पीने का आदी था। डिप्रेशन में ही उसने मां की हत्या कर खुद आत्महत्या की। पुलिस अधीक्षक देहात परमेंद्र डोभाल के अनुसार इस मामले में हर पहलू पर जांच की जा रही है।

चार बहनों ने दी इकलौते भाई व मां को मुखाग्नि

बेलोवाला में नृशंस कांड में मरे मां बेटे के शवों का नाते रिश्तेदारों ने हरिद्वार के खड़खड़ी श्मशानघाट पर अंतिम संस्कार किया। जहां पर चारों बहनों ने अपने इकलौते भाई व मां के शवों को मुखाग्नि दी। मौजूद लोगों ने जब यह दृश्य देखा तो उनकी भी आंखे भर आयी। 

बहनें अपने इकलौते भाई जय पंडित शर्मा की कलाईयों पर राखियां बांधकर फूले नहीं समाती थी। घर में रक्षाबंधन पर हंसी खुशी का माहौल रहता था, लेकिन उसी भाई ने मां की हत्या कर खुदकशी कर ली। इस घटना ने बहनों को झकझोर कर रख दिया है। 

अब इकलौता भाई और मां नहीं रही, जिनके सहारे बहनें बेलोवाला में अपने मायके में कुछ पल बिताने आया करती थीं। अपने नातियों के साथ उनकी नानी सुशीला देवी भी खुश रहती थी। मां के प्रेम में चारों बहनें सुकून महसूस करती थीं। 

जय पंडित भी सबकी आवभगत करता था। करोड़ों रुपये की संपत्ति के मालिक होने के बाद भी इस घटना के बाद बेलोवाला में नामलेवा भी कोई नहीं बचा है। अपने इकलौते भाई व मां के शवों को देखकर चारों बहनें बेहोश हो गईं। जिन्हें किसी तरह से होश में आने के बाद लोगों ने सांत्वना दिया, ढांढस बंधाया। दोनों शवों का हरिद्वार में अंतिम संस्कार किया गया। जहां पर चारों बहनों ममता, हिमान्तिका, रज्जू, ङ्क्षबदिया ने मुखाग्नि दी। इस दृश्य को देखकर हर किसी की आंखें नम हो गयी। 

यह भी पढ़ें: मां की हत्या के बाद युवक ने खुद को भी गोली से उड़ाया Dehradun News

चर्चा का विषय बनी रही घटना

बेलोवाला में जय पंडित ने मां की हत्या कर खुदकशी करने की घटना की पूरे दिन चर्चा का विषय बनी रही। भाऊवाला, सेलाकुई, सहसपुर, विकासनगर में हर जगह इसी घटना की चर्चा होती रही। अधिकांश का यही कहना था कि जय पंडित मिलनसार था, सबके साथ हर सुख दुख में खड़ा रहता था। जब से हरियाणा से सुभाष शर्मा का परिवार बेलोवाला में आकर बसा, किसी से इनकी कोई कहासुनी तक नहीं हुई थी।

यह भी पढ़ें: डबल मर्डर केस में फरार चल रहा परवेज गिरफ्तार Dehradun News

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस