देहरादून, राज्य ब्यूरो। चुनावी आपाधापी के बीच सातवें एवं अंतिम चरण के मतदान से ठीक एक दिन पहले  केदारनाथ धाम पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरी तरह से आध्यात्मिक रंग में रंगे नजर आए। इस दौरान उन्होंने गर्भगृह में रुद्राभिषेक किया तो मंदिर की परिक्रमा भी की और दोपहर बाद करीब दो बजे वह साधना के लिए एकांत स्थल, मंदिर से 1.5 किलोमीटर दूर ध्यान गुफा में चले गए। बताया जा रहा है कि वह यहीं रात्रि विश्राम भी करेंगे। इससे पहले उन्होंने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। 

 हिमालय की चोटियों के मध्य समुद्रतल से 11664 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ धाम में मौसम लगातार परीक्षा ले रहा है। कड़ाके की ठंड में संशय के उमड़ते-घुमड़ते बादलों के बीच अडिग आस्था के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हेलीकाप्टर जब सुबह साढ़े नौ बजे केदारनाथ धाम पहुंचा तो अफसरों ने राहत की सांस ली। हेलीपैड से प्रधानमंत्री पैदल ही सीधे केदारनाथ मंदिर पहुंचे और पूजा अर्चना की। गर्भगृह में धाम के मुख्य पुजारी केदार लिंग और वेदपाठी ओंकारनाथ शुक्ला ने रुद्राभिषेक संपन्न कराया। 

इसके बाद उन्होंने गर्भगृह की परिक्रमा की और मंदिर से बाहर आए। नंदी की प्रतिमा के पूजन के बाद प्रधानमंत्री ने मंदिर की परिक्रमा भी की। इससे पहले सुबह वह विशेष विमान से देहरादून के जौलीग्रांट हवाई अड्डे पहुंचे। यहां राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उनका स्वागत किया। 

ध्यान गुफा तक पैदल पहुंचे पीएम 

केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों के निरीक्षण के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेफ हाउस (अति विशिष्ट अतिथि गृह) में कुछ देर विश्राम किया। दोपहर बाद ठीक 1.40 बजे वह ध्यान गुफा के लिए रवाना हुए। 300 मीटर की दूरी उन्होंने ऑल टैरेन व्हीकल (एटीवी) से तय की और करीब एक किलोमीटर वह पैदल ही चले। यह गुफा केदारनाथ मंदिर को चोराबाड़ी ग्लेशियर से जोडऩे वाले मार्ग पर स्थित है। 

चर्चा में रही पीएम की पोशाक

अक्सर अपनी पोशाक को लेकर चर्चा में रहने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ में भी खास अंदाज में नजर आए। उन्होंने पहाड़ी ध्यूंखा (एक खास तरह का लंबा चोंगे जैसा कुर्ता) पहन उस पर केसरिया रंग का पटका बांधा हुआ था। यह केदारघाटी का पारंपरिक पहनावा है, जिसका प्रचलन वक्त के साथ कम होता जा रहा है।

एक घंटे तक किया पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण

केदारनाथ पुनर्निर्माण प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है। समय-समय पर वह व्यक्तिगत रूप से कार्यों की प्रगति की रिपोर्ट लेते रहते हैं। शनिवार को पूजा अर्चना के बाद वह कार्यों की प्रगति का जायजा लेते रहे। करीब एक घंटे तक उन्होंने निर्माणाधीन शंकराचार्य समाधि स्थल, सरस्वती घाट और सुरक्षा दीवार का जायजा लिया। उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार से उन्होंने निर्माण की प्रगति रिपोर्ट भी ली।

हाथ हिलाकर किया अभिवादन, मोदी-मोदी के नारे लगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देखने के लिए मंदिर परिसर के बाहर बड़ी संख्या में लोग खड़े थे। आमतौर पर प्रधानमंत्री जब भी केदारनाथ आए, तब उन्होंने श्रद्धालुओं से हाथ मिलाया और बातचीत भी की। लेकिन इस बार उन्होंने दूर से ही हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया। इस दौरान मोदी-मोदी के नारों से आसमान गूंज उठा।

मंदिर समिति ने भेंट किया स्मृति चिह्न

सेफ हाउस में श्री बदरी-केदार मंदिर समिति के प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री ने बताया कि समिति की ओर से प्रधानमंत्री को स्मृति चिह्न भेंट किया और उनके फिर से प्रधानमंत्री बनने की कामना की।

केदारनाथ में एसपीजी ने संभाला मोर्चा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केदारनाथ दौरे को लेकर केदारपुरी में एसपीजी ने मोर्चा संभाल लिया है। केदारपुरी को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। शुक्रवार को एसपीजी के अधिकारियों ने केदारनाथ में सुरक्षा तैयारियों का जायजा लेकर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। मोदी इससे पहले 3 मई 2017, 20 अक्‍टूबर 2017 और 7 नवंबर 2018 को केदारनाथ आ चूके हैं। चौथी बार केदारनाथ पहुंच रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केदारनाथ दौरे को लेकर शासन-प्रशासन तैयारियों में जुटा गया था। जिससे पीएम की सुरक्षा व्यवस्थाओं में कोई चूक न रह जाए, इसके लिए कार्यक्रम से पूर्व ही सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई है। डीएम व एसपी समेत कई वरिष्ठ अधिकारी एक सप्ताह से केदारनाथ में डेरा जमाए हुए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम बदरी टूर

19 मई 2019

  • सुबह 7:00 बजे बजे मदिर आगमन  
  • 8:00 बजे तक पूजा अर्चना और दर्शन 
  • 8:55 बजे बदरीनाथ रवाना
  • बदरीनाथ में पूजा अर्चना और दर्शन  
  • 10:50 बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट के लिए रवाना 
  • 11:30 बजे जौलीग्रांट से दिल्ली के लिए रवाना

यह भी पढ़ें: Chardham Yatra: एक लाख पार कर गया यात्रियों का आंकड़ा

यह भी पढ़ें: चारधाम यात्रा में जीएमवीएन ने दस दिन में की इतनी कमाई, जानिए

यह भी पढ़ें: हिंदुओं की आस्था का केंद्र पवित्र कैलास बनेगा विश्व धरोहर, यूनेस्को की मंजूरी

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Negi