देहरादून, राज्य ब्यूरो। चारधाम यात्रा को लेकर ऊहापोह अब खत्म हो गया है। एक जुलाई से यात्रा शुरू होगी, लेकिन इसके लिए केवल राज्य के लोगों को ही अनुमति दी जाएगी। कंटेनमेंट जोन के अलावा क्वारंटाइन किए गए लोगों को यात्रा की इजाजत नहीं होगी। बाहरी राज्यों के लोगों को फिलहाल यात्रा की अनुमति नहीं होगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन के मध्य शनिवार देर शाम हुई बैठक में इस पर सहमति बनी। बोर्ड के सीईओ के मुताबिक सोमवार को चारधाम यात्रा के मद्देनजर मानक परिचालन कार्यविधि (एसओपी) जारी की जाएगी।

केंद्र सरकार द्वारा धार्मिक स्थलों को खोलने की छूट दिए जाने के बाद प्रदेश सरकार ने चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री की यात्रा के संबंध में निर्णय लेने का जिम्मा चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को सौंपा था। बोर्ड ने चारधाम के तीर्थ पुरोहितों और हक-हकूकधारियों से सलाह-मशविरे के बाद नौ जून को तीन जिलों चमोली, रुद्रप्रयाग व उत्तरकाशी के लोगों को अपने-अपने जिले के धामों में जाने की अनुमति दे दी थी। यह व्यवस्था 30 जून तक के लिए नियत की गई। साथ ही ये तय हुआ था कि इसके बाद परिस्थितियों का अध्ययन करने के बाद निर्णय लिया जाएगा।

इस बीच कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही वर्षाकाल शुरू होने के मद्देनजर चारधाम यात्रा को लेकर ऊहापोह बना हुआ था। हालांकि, सरकार की ओर से कहा जा रहा था कि सभी पहलुओं पर अध्ययन के बाद ही यात्रा के संबंध में निर्णय लिया जाएगा। अब चारधाम यात्रा को लेकर संशय की स्थिति समाप्त हो गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार देर शाम को चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ के साथ बैठक कर पूरी स्थिति की जानकारी ली।

बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन के अनुसार चारधाम के तीर्थ पुरोहितों के साथ ही हक-हकूकधारियों से यात्रा के संबंध में मिले फीडबैक से मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया। इस बात पर सहमति बनी कि एक जुलाई से राज्य के लोगों को चारधाम यात्रा के लिए अनुमति दी जाएगी। इसके लिए कोरोना से बचाव के दृष्टिगत मुख्य सचिव की ओर से आठ जून को जारी किए गए आदेश का अनुपालन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना के दृष्टिकोण से बनाए गए कंटेनमेंट जोन के अलावा क्वारंटाइन किए गए लोगों को किसी भी दशा में यात्रा की इजाजत नहीं दी जाएगी। बाहरी राज्यों के लिए फिलहाल चारधाम यात्रा की अनुमति नहीं होगी।

यह होंगे मानक

  • चारधाम यात्रा के लिए सिर्फ राज्य के लोग ही करा सकेंगे पंजीकरण
  • राज्यवासियों को राज्य में निवासरत होने का देना होगा प्रमाण
  • यात्रा के लिए जिला व स्थानीय प्रशासन जारी करेंगे अनुमति
  • सुरक्षित शारीरिक दूरी के मानक, मास्क आदि का करना होगा पालन

श्रद्धालुओं की दैनिक संख्या

धाम-----------संख्या (अधिकतम)

बदरीनाथ--------1200

केदारनाथ---------800

गंगोत्री-------------600

यमुनोत्री----------400

यह भी पढ़ें: Surya Grahan 2020: सूर्यग्रहण खत्म होने पर चारधाम समेत सभी मंदिरों के खुले कपाट, हरकी पैड़ी पर हुई गंगा आरती

श्रद्धालुओं की कम ही रहेगी आमद

चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों के लोगों को पूर्व में बदरीनाथ और केदारनाथ में जाने की अनुमति दिए जाने के बावजूद इनकी संख्या बेहद कम रही। चारधाम देवस्थानम बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक नौ जून से अब तक बदरीनाथ में 213 और केदारनाथ में 57 लोगों ने ही दर्शन किए। ऐसे में माना जा रहा कि राज्य के लोगों को अनुमति देने पर भी श्रद्धालुओं की आमद कम ही रहेगी।

यह भी पढ़ें: Chardham Yatra 2020: बदरी-केदार में लगातार हो रही ऑनलाइन पूजाएं, ऐसे कर सकते हैं बुकिंग

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस