देहरादून, जेएनएन। तेजी से बढ़ रही गर्मी हलकान करने लगी है। पेयजल आपूर्ति की भी सांसे उखड़ने लगी हैं। कहीं पेयजल आपूर्ति पूरी तरह ठप होने लगी है तो कहीं आपूर्ति का समय घटकर महज आधा घंटा हो गया है। ऐसे में लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा है।

दून शहर में गर्मी के साथ पानी की किल्लत भी बढ़ रही है। जल संस्थान आपूर्ति सुचारू बनाए रखने के तमाम दावे तो कर रहा है, लेकिन धरातल पर स्थिति कुछ और ही है। शहर के कई इलाकों में आपूर्ति प्रभावित है। कुछ स्थानों पर तो जल संस्थान की ओर से टैंकर भी भिजवाए जा रहे हैं। 

कई इलाकों में आपूर्ति का समय अचानक घट गया है। सुबह आधा घंटा ही पानी आ रहा है। यह भी फिक्स नहीं है। समय में हो रहे बदलाव के कारण भी लोगों को परेशानियों से दो-चार होना पड़ रहा है।

नहीं मिल रहा पर्याप्त जल 

मानकों के हिसाब से शहरी क्षेत्र में 135 लीटर प्रति व्यक्ति और ग्रामीण क्षेत्र में 70 लीटर प्रति व्यक्ति पानी की आवश्यकता होती है। जबकि, इन दिनों शहरी क्षेत्र में लोगों को 100 लीटर तो ग्रामीण क्षेत्रों में 50 लीटर ही पानी उपलब्ध हो रहा है। 

इन क्षेत्रों में हो रही पेयजल किल्लत

चंद्रबनी, स्मिथनगर, सरस्वती विहार, प्रवेश विहार, नेशविला रोड, डोभालवाला, बंजारावाला, इंदिरापुरम, अलकनंदा एनक्लेव, जीएमएस रोड आदि क्षेत्रों में बेहद कम आपूर्ति हो रही है।

पेयजल किल्लत के क्षेत्र हैं चिह्नित

जल संस्थान ने चारों जोन उत्तर, दक्षिण, पित्थूवाला व रायपुर में लगभग 120 मोहल्ले, 15 बस्तियां और कॉलोनियां चिह्नित कर रखी हैं। जहां अक्सर पेयजल का संकट बना रहता है। ऐसे में टैंकर सप्लाई और फील्डकर्मियों को मुस्तैद रख पानी आपूर्ति को सुचारु बनाने का प्रयास रहता है।

यहां करें शिकायत

टोल फ्री नंबर- 18001804100,

लैंड लाइन- 01352741400

मसूरी में भी चिलचिलाती धूप ने किया बेहाल

बढ़ती गर्मी का असर अब पहाड़ों की रानी मसूरी में भी दिखने लगा है। दिन में चिलचिलाती धूप ने बेचैनी बढ़ा दी है। साथ ही दून में गर्म हवा के थपेड़े भी बेहाल कर रहे हैं। हालांकि, सोमवार देर रात गंगोत्री और यमुनोत्री में हिमपात हुआ। बीते वर्ष भी गंगोत्री और यमुनोत्री में मई में बर्फ गिरी थी। 

हालांकि बदरीनाथ और केदारनाथ में मौसम सुहावना बना हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में प्रदेश में मौसम शुष्क रहेगा। सोमवार शाम को उत्तरकाशी जिले में आंधी से कई जगह पेड़ उखड़ गए थे। इससे पांच लोग घायल हुए, जिले में कई जगह बारिश भी हुई और गंगोत्री-यमुनोत्री में बर्फ गिरी। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के 1148 ग्रामीण और शहरी बस्तियों को पेयजल संकट से राहत

हालांकि मंगलवार को तेज धूप के कारण बर्फ पिघल गई। बुधवार को सुबह से ही गर्मी से लोग बेहाल हैं। प्रदेश के मैदानी भागों में पारे की रफ्तार जारी है। देहरादून में पारा 37 डिग्री सेल्सियस के पास पहुंच गया है, जबकि हरिद्वार में यह 38 डिग्री सेल्सियस के पार है।

यह भी पढ़ें: पानी के बिल जमा करने को खुलेगा काउंटर, शारीरिक दूरी जरूरी Haridwar News

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस