देहरादून, जेएनएन। वार्ड नंबर 80 रेस्ट कैंप का त्यागी रोड क्षेत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन के साथ ही हर घर में शौचालय के दावों की धज्जियां उड़ रहा है। क्षेत्र में जगह-जगह गंदगी के ढेर तो लगे ही हैं, साथ ही मद्रासी कॉलोनीवासियों के लिए एक अदद शौचालय तक उपलब्ध नहीं है। यहां महिलाएं आज भी खुले में शौच करने को मजबूर हैं। इसके साथ ही इस क्षेत्र में सड़कों व नालियों की दयनीय स्थित बनी हुई है। खुद पार्षद के घर के आसपास की नालियां ही गंदगी से भरी पड़ी हैं।

रेस्ट कैंप वार्ड का त्यागी रोड क्षेत्र हालांकि शहर के बीचोंबीच स्थित है, लेकिन यहां साफ-सफाई से लेकर सड़क, नालियां, शौचालय जैसे मूलभूत सुविधाओं का अभाव बना हुआ है। क्षेत्र की मद्रासी कॉलोनी बस्ती की स्थिति तो इतनी दयनीय है कि यहां लोग नरक जैसा जीवन जीने को मजबूर हैं। 

रेलवे स्टेशन से सटी इस बस्ती में घरों के आगे कूड़े के ढ़ेर लगे हुए हैं। इससे उठने वाली बदबू के कारण लोगों का सांस लेना भी दूभर हो गया है। हैरत की बाद तो यह है कि बस्ती में सैकड़ों परिवार निवास करते हुए हैं, लेकिन उनके लिए एक शौचालय तक की व्यवस्था नहीं हैं। 

यहां महिलाएं तक खुले में शौच करने को मजबूर हैं। हालांकि छह माह पहले यहां मोबाइल टॉयलेट रखा था, लेकिन न तो इसकी सफाई की कोई व्यवस्था है और न ही पानी उपलब्ध किया जा रहा है। कई बार लोग क्षेत्र में सार्वजनिक शौचालय बनाने की मांग कर चुके हैं, लेकिन उनकी कोई सुनने वाला नहीं है। 

स्थानीय महिलाओं ने बताया कि उनके घरों में जवान लड़कियां है। क्षेत्र रेलवे स्टेशन से सटा होने के कारण यहां असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लगा रहता है। शौचालय न होने के कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

एक माह से सड़क पर बह रहा हजारों लीटर पानी

त्यागी रोड पर लीकेज के कारण रोज हजारों लीटर पानी सड़क पर बह रहा है। इस समस्या को लेकर स्थानीय निवासी कई बार जल संस्थान से शिकायत कर चुके हैं, लेकिन आज तक इसका समाधान नहीं हो पाया है।

क्षेत्र के लोगों का तर्क 

त्यागी रोड निवासी राजवीर सिंह त्यागी के अनुसार क्षेत्र में सफाई से लेकर सड़क तक कई समस्याएं हैं, बार-बार शिकायत करने के बाद भी कोई समाधान नहीं होता। विगत कई दिनों से यहां पानी सड़क पर बर्बाद हो रहा है, लेकिन शिकायत के बाद भी कोई सुध लेने वाला नहीं है। 

एके दिवाकर बताते हैं कि क्षेत्र में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। सफाई की समस्या सबसे ज्यादा है। क्षेत्र में जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। नियमित कूड़ा उठान न होने के कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

त्यागी रोड रेस्ट कैंप निवासी अतुल बंसल के मुताबिक नालियों की समस्या है। नालियां न होने के कारण घरों का गंदा पानी सड़क पर बहता है। जहां नालियां हैं भी, उनकी सफाई नहीं हो पाती। जिससे नालियों से बदबू उठने लगती है। 

सुरेंद्र नाथ कटियार का कहना है कि क्षेत्र में सड़कों की हालत ठीक नहीं है, जगह-जगह सड़कें उखड़ी हुई हैं। जिससे आने-जाने में काफी समस्या का सामना करना पड़ता है। कई बार मांग करने के बाद भी सड़कों की हालत ठीक नहीं हुई।

मद्रासी कॉलोनी निवासी सीता देवी के मुताबिक क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्या मद्रासी कॉलोनी में शौचालय की व्यवस्था न होना हैं। यहां महिलाएं खुले में शौच करने को मजबूर हैं। कॉलोनी में गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। जिससे उठने वाली बदबू से लोग काफी परेशान हैं।  

कोई नहीं सुनने वाला 

रेस्ट कैंप की पार्षद अर्चना कपूर के अनुसार क्षेत्र में सड़कों, साफ सफाई की व्यवस्था दयनीय है। सबसे बड़ी समस्या मद्रासी कॉलोनी की है। पहले यहां शौचालय बने हुए थे, लेकिन रेलवे ने उन्हें तोड़ दिया। इसके बाद से यहां महिलाएं, बच्चे खुले में शौच करने को मजबूर हैं। कई बार निगम के साथ ही विधायक से भी यहां सार्वजनिक शौचालय बनाने की मांग की जा चुकी है, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।

यह भी पढ़ें: नगर निगम की इन कॉलोनियों में अतिक्रमण और गंदगी बनी मुसीबत

यह भी पढ़ें: इन कॉलोनियों में खुदी सड़कें बनी नासूर, हर वक्त रहता है जान का जोखिम

यह भी पढ़ें: इस कॉलोनी की हर गली में है कचरा, अतिक्रमण से लोग परेशान

Posted By: Bhanu