देहरादून, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और पंचायती राज मंत्री अरविंद पांडेय ने वर्ष 2019 और 2020 में राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार प्राप्त करने वाली पंचायतों के प्रतिनिधियों को सम्मानित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायतों को कैसे और अधिक मजबूत किया जा सकता है, इसके लिए सुनियोजित तरीके से काम करना जरूरी है। गुरुवार को सचिवालय में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह राज्य के लिए सौभाग्य की बात है कि बीते दो वर्षों में उत्तराखंड की पंचायतों ने विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य कर पुरस्कार प्राप्त किए। यह पंचायतों द्वारा अपनाई गई नई सोच का परिणाम है। 

कोरोना के दौरान भी जनप्रतिनिधियों ने अहम भूमिका निभाई है। कोरोना के दौरान अग्रिम पंक्ति में काम करने वाले स्वच्छता कर्मियों, पुलिस, आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और एएनएम का सराहनीय कार्यों के लिए उत्साहव‌र्द्धन किया जाए। पंचायती राज मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि उत्तराखंड की पंचायतों ने राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार के अंतर्गत विभिन्न मापदंडों के आधार पर दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तीकरण पुरस्कार, नानाजी देशमुख राष्ट्रीय ग्राम सभा पुरस्कार, बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार और ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार प्राप्त किए हैं। इनमें केंद्र सरकार पुरस्कार राशि देती है। 

कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष देहरादून मधु चौहान, क्षेत्र पंचायत प्रमुख लक्सर संजय कुमार, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत ऊधमसिंह नगर राजीव कुमार त्रिपाठी, ग्राम प्रधान मारखम ग्रांट डोईवाला अमरजीत कौर, प्रधान ग्राम पंचायत टिहरी डोबनगर, हरिद्वार सुनीता राणा पंवार, ग्राम प्रधान ग्राम पंचायत खलेड़ी, बहादराबाद रूपेश कुमार, ग्राम प्रधान केदारवाला, विकासनगर तबस्सुम परवीन, ग्राम प्रधान डाकपत्थर सुबोध गोयल को सम्मानित किया गया। 

इन त्रिस्तरीय पंचायतों को मिले पुरस्कार पंचायत पुरस्कार 2019 

दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तीकरण पुरस्कार 2019- जिला पंचायत ऊधमसिंह नगर (50 लाख रुपये), क्षेत्र पंचायत नरेंद्र नगर टिहरी और क्षेत्र पंचायत पोखरी, चमोली (25-25 लाख रुपये), ग्राम पंचायत धारी पल्ली, ग्राम पंचायत बमराड़, ग्राम पंचायत देहरादून (पांच से 15 लाख रुपये)।

नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार- ग्राम पंचायत नेबी, देहरादून (10 लाख रुपये)। 

बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार- ग्राम पंचायत टिहरी डोबरनगर, बहादराबाद (पांच लाख रुपये)। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में ग्राम पंचायतों से जुड़ेंगी वन पंचायतें, प्रस्ताव तैयार कर रहा महकमा 

पंचायत पुरस्कार 2020

दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तीकरण पुरस्कार 2020-जिला पंचायत देहरादून,(50 लाख रुपये), क्षेत्र पंचायत लक्सर, हरिद्वार और क्षेत्र पंचायत भीमताल, नैनीताल (25-25 लाख रुपये), ग्राम पंचायत कुंवरपुर नैनीताल, ग्राम पंचायत मारखमग्रांट, देहरादून और टिहरी डोबनगर, बहादराबाद हरिद्वार (पांच से 15 लाख रुपये)। 

नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्रामसभा पुरस्कार- ग्राम पंचायत खेलड़ी, हरिद्वार (10 लाख रुपये)। 

बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार-बैलपड़ाव, नैनीताल (पांच लाख रुपये)। 

जीपीडीपी पुरस्कार- केदारवाला देहरादून।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में जैव विविधता पर अब कालाबांसा का साया, जानिए क्यों है खतरनाक

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस