देहरादून, [जेएनएन]: बीते एक सप्ताह से उत्तराखंड में मानसून की सक्रियता बेहद कम हो गई थी, लेकिन  विदाई की औपचारिक घोषणा सोमवार को की गई। चार साल में यह पहला मौका है जब मानसून सामान्य के बेहद करीब रहा। इस दौरान सर्वाधिक वर्षा देहरादून और सबसे कम अल्मोड़ा जिले में रिकार्ड की गई।

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में आमतौर पर 15 जून के आसपास मानसून सक्रिय हो जाता है और तीस सितंबर के आसपास मानसून की विदाई हो जाती है। 

मानसून सीजन में प्रदेश में 1194.3 मिमी बारिश रिकार्ड की गई, जबकि 1229.2 मिमी बारिश सामान्य मानी जाती है। इस दौरान सर्वाधिक 1734 मिमी वर्षा देहरादून जिले में रिकार्ड की गई, जो कि औसतन 1786 मिमी रहना चाहिए। वहीं सबसे कम बारिश अल्मोड़ा में हुई। 

यहां औसत 850 मिमी के सापेक्ष सिर्फ 550 मिमी बारिश ही हुई है। बिक्रम सिंह के अनुसार इस बार कुल वर्षा औसत से सिर्फ तीन फीसद कम रही, जबकि वर्ष 2017 में यह आठ, वर्ष 2016 में 13 और वर्ष 2015 में आठ फीसद कम था। 

मंगलवार को राज्य के अधिकतर क्षेत्रों में मौसम साफ है, लेकिन संभावना जताई जा रही है कि उच्च हिमालयी इलाकों में बौछारों के साथ बर्फबारी भी हो सकती है।

जिलों में बारिश (01 जून से 30 सितंबर)

जिला,     वर्षा,       सामान्य

अल्मोड़ा   550        850

बागेश्वर  1491        850

चमोली   1237        851

चम्पावत  1508       1304

देहरादून  1734        1786

पौड़ी      786         1203

टिहरी     723         1037

हरिद्वार    1224         950

नैनीताल   1547        1427

पिथौरागढ़  1544        1669

रुद्रप्रयाग   1370        1685

यूएस नगर   770        1205

उत्तरकाशी   1112       1135

(नोट : आंकड़ मिमी में)

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में सात अक्टूबर तक विदा हो सकता है मानसून 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में धीमी पड़ी मानसून की रफ्तार, अक्टूबर प्रथम सप्ताह तक होगी विदाई

यह भी पढ़ें: उच्च हिमालयी क्षेत्र में ग्लोबल वार्मिंग का असर, 0.5 डिग्री सेल्सियस बढ़ा तापमान

Posted By: Bhanu