देहरादून, [जेएनएन]: जकार्ता में चल रही एशियन जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप-2018 में लक्ष्य सेन ने इतिहास रच दिया। लक्ष्‍य ने एकल वर्ग के फाइनल में थाईलैंड के कुंलावुत वितिद्सर्न को सीधे सेटों में 21-19 व 21-19 से हराया। बता दें कि सेमीफाइनल मुकाबले में लक्ष्य सेन ने इंडोनेशिया के खसन रुम्बये को करारी शिकस्त दी और फाइनल जीतने वाले पहले भारतीय बन गए।

शनिवार को एशियन जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप का सेमीफाइनल मुकाबला भारत के लक्ष्य सेन व इंडोनेशिया के खसन रुम्बये के बीच हुआ। मैच में शुरू से ही लक्ष्य सेन ने आक्रामक खेल दिखाते हुए प्रतिद्वंद्वी खसन पर बढ़त बनाए रखी। लक्ष्य ने 21-7, 21-14 अंकों के बड़े अंतराल से खसन को पराजित किया और फाइनल में प्रवेश किया।

आज फाइनल मैच लक्ष्य सेन व थाईलैंड के कुलावुत वितिद्सर्न के बीच हुआ। लक्ष्य ने सीधे सेटों में कुलावुत वितिद्सर्न को  21-19 व 21-19 से हराकर खिताब जीत लिया। बता दें कि लक्ष्य सेन प्रतियोगिता में भारतीय दल के कप्तान भी हैं। लक्ष्य सेन अल्मोड़ा के रहने वाले हैं।

लक्ष्य सेन ने उत्तराखंड के साथ ही देश का नाम किया रोशन 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने एशियन जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने पर लक्ष्य सेन को बधाई दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लक्ष्य ने न केवल उत्तराखंड बल्कि भारत का नाम खेल की दुनिया में रोशन किया है। 53 वर्ष बाद एशियन जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप में पुरुष एकल स्पर्धा में भारत को यह स्वर्णिम गौरव प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री ने लक्ष्य सेन के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए आशा व्यक्त की कि आगे भी इसी प्रकार अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन से हम सभी को गौरान्वित करते रहेंगे।

यह भी पढ़ें: सूरज और फरान की गेंदबाजी से जीती आरआर ऐकेडमी

यह भी पढ़ें: भारतीय टेस्ट टीम में रुड़की के ऋषभ पंत का चयन

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप