देहरादून, जेएनएन। भारतीय पेट्रोलियम संस्थान (आइआइपी) ने पीएनजी के लिए खास तरह का बर्नर तैयार किया है। इसके प्रयोग से 15 फीसद गैस की बचत हो सकेगी। आइआइपी के वैज्ञानिकों ने इसका प्रदर्शन भी किया।

प्राकृतिक गैस परियोजना के शिलान्यास के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आइआइपी की ओर से तैयार किए गए बर्नर का अवलोकन करते हुए इसकी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि जब इसका कमर्शियल तौर पर उत्पादन शुरू हो जाएगा तो लोगों को इसके इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाएगा। 

वहीं, संस्थान के वैज्ञानिक पंकज ने कहा कि यह बर्नर देखने में अन्य बर्नर की तरह की लगता है, लेकिन इसमें गैस की बर्बादी नहीं होती है। पाइप से जो भी गैस निकलेगी, उसका पूरा उपयोग हो सकेगा। इससे अनावश्यक रूप से प्रदूषण भी नहीं होगा। उन्होंने कहा कि बर्नर के निर्माण के बाद इसकी तकनीक का पेटेंट कराया जा रहा है। पेटेंट हो जाने के बाद बर्नर का उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा।

सीएनजी कार का भी डेमो

संस्थान में सीएनजी किट लगी एक एंबेस्डर कार का भी डेमो दिया गया। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस कार में सीएनजी किट के अलावा इमरजेंसी में सामान्य ईंधन का भी विकल्प दिया गया है। करीब एक लाख रुपये खर्च कर किट को लगाया जा सकता है और यह घरों में प्रयुक्त होने वाली एलपीजी से भी सुरक्षित है।

यह भी पढ़ें: दून में पीएनजी से पकेगा खाना, पीएम मोदी ने किया परियोजना का शिलान्यास 

यह भी पढ़ें: त्योहार में बिगड़ा बजट, 59 रुपये महंगी हुई रसोई गैस

यह भी पढ़ें: महंगा हुआ रसोई गैस सिलेंडर, अब मिलेगा इतने रुपये में

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप