देहरादून, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री घोषणा के क्रम में अब प्रदेश में जल्द ही होमगा‌र्ड्स की संख्या 10 हजार के पार होगी। सरकार ने होमगा‌र्ड्स मुख्यालय द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर इनकी संख्या 10001 करने को अपनी सैद्धांतिक सहमति प्रदान कर दी है। प्रदेश में अभी 6411 होमगा‌र्ड्स कार्यरत हैं। ऐसे में अब होमगा‌र्ड्स में 3590 स्वयं सेवकों के पद सृजित हो सकेंगे। इनकी भर्ती भी जल्द होने की संभावना है।

प्रदेश में होमगा‌र्ड्स की भूमिका बेहद अहम है। होमगार्ड आंतरिक सुरक्षा को मजबूत करने के साथ ही यातायात, आपदा प्रबंधन, चारधाम यात्रा और चुनावों में सक्रिय भूमिका में रहते हैं। विभागों में चतुर्थ श्रेणी के पदों पर नई भर्ती न होने के कारण अधिकांश स्थानों पर होमगा‌र्ड्स ही यह जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इनके कार्यों को देखते हुए दिसंबर 2017 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने होमगा‌र्ड्स मुख्यालय में हुई रैतिक परेड के दौरान इनकी संख्या 10 हजार करने की घोषणा की थी।

केंद्र पहले ही इनकी संख्या बढ़ाने को मंजूरी दे चुका था हालांकि, मामला इनके प्रशिक्षण पर केंद्र द्वारा दिए जाने वाले 25 फीसद केंद्रांश पर अटक गया था। वर्ष 2018 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एक बार फिर होमगा‌र्ड्स की संख्या बढ़ाने की बात कही लेकिन कतिपय कारणों से यह प्रयास भी परवान नहीं चढ़ पाया। कुछ समय पूर्व एक बार फिर होमगा‌र्ड्स विभाग ने इस संबंध में एक प्रस्ताव शासन को भेजा। मामला मुख्यमंत्री कार्यालय तक भी पहुंचा जहां से इसे सैद्धांतिक स्वीकृति मिल गई है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में पीआरडी कर्मियों को राहत, जल्द मिलेगा बढ़ा मानदेय

हालांकि, सूत्रों की मानें तो हाल ही में सुप्रीम कोर्ट द्वारा होमगा‌र्ड्स के मानदेय में बढ़ोतरी के संबंध में दिए गए निर्देशों को देखते हुए फिलहाल अभी प्रस्ताव लंबित रखा गया है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने होमगा‌र्ड्स को पुलिस कांस्टेबल के समान वेतन देने के निर्देश दिए हैं। शासन में इस प्रस्ताव पर मंथन चल रहा है। मानदेय का निस्तारण होने के बाद नए पदों को सृजित करने में गति लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: सरकार की हां-ना में फंसकर रह गए शिक्षक, 'सेवावृद्धि' पुरस्कार के इंतजार में सेवानिवृत्त

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस