देहरादून, जेएनएन। शराब कांड के बाद चौतरफा किरकिरी झेल रहे आबकारी विभाग के अधिकारी होश में आते दिख रहे हैं। आबकारी आयुक्त सुशील कुमार ने देहरादून जिले के सभी निरीक्षकों और गढ़वाल मंडल के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर रोजाना दबिश देने के निर्देश जारी किए। 

सोमवार को गांधी रोड स्थित आबकारी मुख्यालय में हुई बैठक में आयुक्त सुशील कुमार ने कहा कि शराब तस्करों की धरपकड़ को रोजाना छापे मारे जाएं और उसी दिन शाम को की गई कार्रवाई से भी अवगत कराया जाए। उन्होंने विभाग में वाहनों की कमी को देखते हुए कहा कि संबंधित कार्यालय अपने-अपने स्तर पर वाहन किराये पर ले लें। फौरी व्यवस्था के बाद कार्यालयों को स्थायी संसाधन भी मुहैया कराए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि जहां भी जिस संसाधन की जरूरत है, अधिकारी प्रस्ताव बनाकर भेजें। उस पर गंभीरता के साथ कार्रवाई की जाएगी। आबकारी आयुक्त ने कहा कि वर्तमान की घटना से सीख लेकर सभी कार्मिक अपने-अपने क्षेत्रों में सक्रिय होकर काम करें। शराब तस्करी को किसी भी रूप में स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

शराब तस्करी में दो महिलाएं गिरफ्तार 

आबकारी आयुक्त के निर्देश पर की जा रही छापेमारी के क्रम में सोमवार को भी जिलेभर में छापेमारी की गई। आबकारी के संयुक्त आयुक्त बीएस चौहान ने बताया कि ऋषिकेश की आवास विकास कॉलोनी के एक घर से हरियाणा में बिक्री के लिए अधिकृत शराब की 16 पेटी बरामद की गईं। शराब तस्करी के आरोप में बाला देवी को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, चकराता क्षेत्र के टिपरपुर गांव में एक घर से 50 लीटर शराब बरामद कर ममता नाम की महिला को गिरफ्तार किया गया। 

रुड़की की घटना के बाद भी सक्रिय विभाग पड़ गया था ठंडा 

रुड़की में जहरीली शराब कांड के बाद भी सरकार से लेकर शासन व आबकारी मुख्यालय सक्रिय हो गया था। कई कार्मिकों को निलंबित करने के साथ ही प्रदेशभर में व्यापक स्तर पर छापेमारी अभियान शुरू किया गया था। हालांकि, कुछ समय बाद ही सब कुछ पुराने ढर्रे पर आ गया। लिहाजा, इस दफा भी यह देखने की जरूरत है कि फील्ड में दिख रही यह सक्रियता कब तक जारी रहती है। 

चार और सैंपल को जांच में मिली हरी झंडी 

शराब ठेकों से लिए गए सैंपलों की जांच निरंतर जारी है। सोमवार को भी चार सैंपल की जांच की गई और सभी में किसी तरह की मिलावट नहीं पाई गई। इससे पहले छह सैंपलों को भी जांच में हरी झंडी दी गई थी। 

देवभूमि में अनैतिक काम बर्दाश्त नहीं: सीएम 

मख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि देवभूमि उत्तराखंड में किसी भी तरह के अनैतिक कार्य बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। असमाजिक और गैरकानूनी कृत्यों में लिप्त तत्वों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: जहरीली शराब कांड: तो सरकारी दुकानों में भी बिक रहे हैं मौत के जाम

अगर कोई अधिकारी या कर्मचारी भी गलत कार्यों में मिलीभगत करता पाया जाता है तो उसे भी नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने संबंधित विभागों को शराब और नशे के अवैध कार्यों की रोकथाम के लिए निगरानी तंत्र को मजबूत बनाने के निर्देश जारी किए। उन्होंने कहा कि अपराधियों में भय उत्पन्न करना ही प्राथमकिता होनी चाहिए। इसके लिए जनता से भी सहयोग लिया जाए और पुलिस विभाग को सख्त कार्रवाई के लिए सरकार व शासन से पूरे सहयोग मिलेगा। 

यह भी पढ़ें: बड़ा सवाल: मौत के गुनाहगारों के कौन थे पनाहगार, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस