देहरादून, राज्य ब्यूरो। तीन साल पूरे होने के मौके पर प्रदेशभर में जश्न की तैयारी कर रही भाजपा की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जिलों में इस कार्यक्रम पर खर्च होने वाली धनराशि को कोरोना से लड़ने के लिए ढांचा खड़ा करने और चिकित्सालयों पर खर्च किया जाना चाहिए।

उधर, सरकार के प्रवक्ता व काबीना मंत्री मदन कौशिक ने हरीश रावत के वक्तव्य को सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर सरकार संजीदा है। 20 हजार से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। तीन साल पूरे होने पर सरकार सामान्य कार्यक्रम कर रही है। 

पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत ने सोशल मीडिया पर अपनी पोस्ट में कोरोना महामारी के मौके पर विधानसभावार कार्यक्रमों के आयोजन को लेकर सरकार को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सलाह देते हैं कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए आवश्यक है भीड़भाड़ से बचा जाए। हम जैसे लोग होली मिलन कार्यक्रम स्थगित कर देते हैं। 

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की सरकार बहुत साहसी है। वह तीन साल का जश्न मनाने के लिए 11-12 करोड़ रुपया खर्च करने जा रही है। सूचना विभाग जिलों में धनराशि जारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि विधायक जश्न के हीरो हो गए हैं। धन्य हो, उत्तराखंड सरकार। उनके मन में उठ रहे सवाल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस पैसे को कोरोना से लड़ने के लिए, ढांचा खड़ा करने के लिए, चिकित्सालयों पर खर्च किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: 18 मार्च को भाजपा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेगी कांग्रेस

इसका जवाब देते हुए सरकार के प्रवक्ता व काबीना मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि कोरोना के चलते होली मिलन कार्यक्रम से सरकार ने भी परहेज किया है। पूरे प्रदेश में कोरोना से निपटने की चाक-चौबंद तैयारी की जा रही है। अस्पतालों में 242 बिस्तर तैयार हैं। उन्होंने पलटवार करते हुए कहा कि हरीश रावत अपनी पार्टी की अंदरूनी दिक्कतों से ध्यान हटाने के लिए ऐसे वक्तव्य देते हैं।

यह भी पढ़ें: सरकार ने विधानसभा वार होने वाले कार्यक्रमों में दिया न्यौता, विपक्ष ने ठुकराया

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस