देहरादून, जेएनएन। चीफ इमाम, सदर जमीयत उलेमा-ए-हिंद के सदर और जामियामुस्सलाम अल इस्लामिया के प्रबंधक रईस अहमद कासमी ने दरबार साहिब में श्रीमहंत देवेन्द्र दास से शिष्टाचार भेंट की। मुलाकात के दौरान उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून, नागरिकता संशोधन बिल पर चर्चा की। उन्होंने इस मसले पर जनसामान्य के बीच भ्रम और भ्रांतियों को दूर करने पर रायशुमारी की जरूरत बताई। साथ ही उत्तराखंड के सभी मदरसों व वक्फ बोर्ड की दशा सुधारने पर भी चर्चा की गई।

चीफ इमाम ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल को लेकर लोग भ्रम व असमंजस की स्थिति में हैं। आम जनमानस की शंकाओं को दूर करने के लिए सरकार को किसी जानकार प्रतिनिधियों की नियुक्ति करनी चाहिए। जो आम बोलचाल की भाषा में नागरिकता संशोधन बिल की व्याख्या कर सके। 

यह भी पढ़ें: सीएए के समर्थन में मसूरी विधायक ने किया जनसंपर्क Dehradun News

दरबार साहिब के प्रति आस्था जताते हुए उन्होंने कहा कि दरबार साहिब की ओर से बिल की भ्रांतियों को दूर करने के बारे में यदि कोई प्रयास किया जाता है तो उसका स्वागत किया जाएगा। श्री महंत देवेंद्र दास ने आश्वस्त किया कि वह इस विषय पर खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात करेंगे ताकि आम जनमानस और सरकार के बीच सीधा संवाद कायम हो सके।

यह भी पढ़ें: Citizenship amendment act: सीएए के समर्थन में वैश्य महासंघ, कहा-देश के इतिहास में मील का पत्थर

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस