जागरण संवाददाता, देहरादून। Dehradun Coronavirus Update कोरोना की दूसरी लहर कमजोर जरूर पड़ गयी है, पर दून के लिए आंकड़े अभी भी मुफीद नहीं दिख रहे हैं। चिंता इस बात की है कि यहां कोरोना के मामलों में एक तरह की निरंतरता बनी हुई है। ऐसा एक दिन नहीं बीत रहा जब दून में कोरोना का कोई नया मामला नहीं आ रहा। यही कारण है कि अन्य जिलों में जहां सक्रिय मामलों की संख्या इकाई पर सिमट गई है और तीन जिलों में कोई सक्रिय मामला ही नहीं है, दून में यह आंकड़ा लगातार सौ से ऊपर बना हुआ है। राज्य में फिलवक्त 73 प्रतिशत सक्रिय मामले अकेले दून में हैं। उस पर अब आमजन से लेकर सिस्टम तक बेपरवाह दिख रहे हैं। लोग बिना मास्क घूम रहे हैं, शारीरिक दूरी का उल्लंघन कर रहे हैं, वहीं सरकारी तंत्र भी अब टेस्टिंग और ट्रेसिंग को लेकर संजीदा नहीं दिख रहा।

राजनीतिक गतिविधियों का गढ़ बना दून, सिस्टम उदासीन

चिंता इस बात की भी है कि राज्य में विधानसभा चुनाव नजदीक है। ऐसे में राजनीतिक गतिविधियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। जिनका प्रमुख गढ़ देहरादून बन रहा है। जाहिर है कि चुनाव नजदीक आते-आते यहां तमाम बड़े आयोजन होंगे। उस पर नियमों में ढिलाई के कारण पर्यटकों की आमद भी लगातार बढऩे लगी है। दिसंबर शुरू होते-होते, यानी छुट्यिों में इसमें और तेजी आएगी। अंदेशा इस बात का है कि सिस्टम की उदासी कहीं कोरोना की तीसरी लहर को न न्योता दे दे।

मामले बढ़े, जांच हुई कम

दून शुरुआत से ही कोरोना का हाटस्पाट रहा है और अब भी सबसे ज्यादा मामले यहीं आ रहे हैं। यही नहीं अब इनमें हल्की बढ़ोतरी भी दिखाई दे रही है। इससे उलट जांच में लगातार कमी आ रही है। एक वक्त पर जिले में हर दिन दस हजार सैंपल की जांच का लक्ष्य तय किया गया था। फिलवक्त लक्ष्य से आधी भी जांच नहीं की जा रही है। हर दिन औसतन तीन से चार हजार सैंपल की जांच ही हो पा रही है। डेढ़ माह की सैंपलिंग व जांच का तुलनात्मक अध्ययन करें तो चिंता का कारण साफ दिखाई देगा। आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं कि जांच लगातार कम हुई है।

अन्य राज्यों से अब बेरोकटोक आ रहे लोग

कोरोना की दूसरी लहर में राज्य के बाहर से आने वालों के लिए सख्ती बरती गई। शहर के तमाम प्रवेश द्वार पर सैंपलिंग की व्यवस्था की गई। पर यह व्यवस्था अब ध्वस्त हो चुकी है। देश के तमाम शहरों से यहां लोग बेरोकटोक दाखिल हो रहे हैं। बस अड्डे, रेलवे स्टेशन पर जरूर जांच की व्यवस्था है, पर इसे भी कई लोग धता बता रहे हैं।

न मास्क और न शारीरिक दूरी का पालन

कोरोना के मामले कम होने के कारण लोग भी अब बेपरवाह दिख हैं। शायद, दूसरी लहर की भयावहता को वह भूल गए हैं। बाजार से लेकर तमाम सार्वजनिक कार्यक्रमों में यही स्थिति है। लोग मास्क पहन रहे हैं और न शारीरिक दूरी का ही पालन हो रहा है। चिकित्सकों के अनुसार शीतकाल का ठंडा और शुष्क वातावरण न केवल वायरस को स्थायित्व देता है बल्कि श्वासतंत्र की प्रतिरोधकता को कम कर देता है, जिससे कि फ्लू और कोरोना जैसे वायरस आसानी से संक्रमण फैला पाते हैं। ऐेसे में संक्रमण से बचाव के लिए एहतियात जरूरी है।

जिलाधिकारी आर राजेश कुमार ने बताया कि कोरोना को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। आइएसबीटी, रेलवे स्टेशन आदि पर जांच की जा रही है। यह जरूरी है कि लोग कोविड-नियमों का पूरी तरह पालन करें। मास्क, शारीरिक दूरी आदि का पालन करें।

एसडीसी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल ने बताया कि दून में कोरोना के मामलों में एक तरह की निरंतरता बनी हुई है। यह अच्छा संकेत नहीं है। चिंता इस बात की है कि लोग अब कोविड-नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। उस पर जांच में भी सुस्ती आई है। सरकार व शासन-प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

कोरोनेशन अस्पताल(जिला चिकित्सालय) के वरिष्ठ फिजीशियन डा. एनएस बिष्ट ने बताया कि गर्मियों के उच्च तापमान, आद्र्रता और पराबैंगनी किरणों के आधिक्य के चलते वायरस अस्थिर होता है। जबकि सर्दियों का कम तापमान, कम आद्र्रता और कम पराबैंगनी विकिरण वायरस को स्थायित्व प्रदान करता है। शुष्कता की वजह से बलगम की बूंदें छोटे वातकणों में टूट जाती है और हवा में ज्यादा देर तक तैर सकती है।

कोरोना की स्थिति

जांच

दो अक्टूबर-16 अक्टूबर: 65067

17 अक्टूबर-31 अक्टूबर: 60609

एक नवंबर-15 नवंबर: 56880

मामले

दो अक्टूबर-16 अक्टूबर: 66

17 अक्टूबर-31 अक्टूबर: 71

एक नवंबर-15 नवंबर: 76

यह भी पढें- Uttarakhand Coronavirus Update: उत्तराखंड के दस जिलों में कोरोना का कोई नया मामला नहीं

संक्रमण दर

दो अक्टूबर-16 अक्टूबर: 0.10

17 अक्टूबर-31 अक्टूबर: 0.12

एक नवंबर-15 नवंबर: 0.13

यह भी पढ़ें- डीएम ने कहा- अल्ट्रासाउंड मशीन के दुरुपयोग की सूचना को गंभीरता से लें

Edited By: Raksha Panthri