देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: नगर निकाय चुनाव में बागियों पर सतारूढ़ भाजपा के सख्त तेवर अपनाने के बाद कांग्रेस ने भी इसी राह पर कदम बढ़ाने की ठान ली है। बागियों को दीपावली तक पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में आने की मोहलत दी गई है। इसके बाद उन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गाज गिराते हुए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। 

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने पत्रकारों से बातचीत में पार्टी के रुख को सामने रखा। उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने निकाय चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ बगावत कर चुनाव मैदान में उतरने वालों को एक मौका दिया है। 

पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में आने वाले बागियों पर पार्टी का चाबुक नहीं चलेगा, लेकिन ऐसा नहीं होने पर पार्टी किसी को नहीं बख्शेगी। ऐसे लोगों के लिए पार्टी के दरवाजे बंद किए जाएंगे। 

प्रदेश उपाध्यक्ष धस्माना ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एक निजी चैनल संचालक के खिलाफ दर्ज मुकदमें वापस लेने को लिखे गए पत्र पर गलत बयानबाजी कर रहे हैं। 

उन्होंने बगैर सोचे-समझे सिफारिश करने से गुरेज नहीं किया। वहीं मुख्यमंत्री को कालनेमि का डर सता रहा है। रावण की सेना के सभी पात्र भाजपा के भीतर ही हैं। भाजपा ने भगवान राम को 26 साल का वनवास दिया है।

यह भी पढ़ें: स्थानीय निकाय चुनावः दीपावली के बाद भाजपा और कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की धूम

यह भी पढ़ें: चुनावी खर्च में नामांकन की फीस नहीं दिखा रहे नेताजी

यह भी पढ़ें: किन्नर रजनी रावत के मैदान में उतरने से कर्इ दिग्गजों के छूट रहे पसीने

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस