देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: त्योहारी रंगत के बीच उत्तराखंड की फिजां में सियासी रंग भी घुलने लगा है। 18 नवंबर को होने वाले निकाय चुनाव की तिथि जैसे-जैसे करीब आ रही है, उसे देखते हुए निकायों की कुर्सी को किस्मत आजमा रहे प्रत्याशियों ने अपने प्रचार अभियान को भी गति दे दी है। अलबत्ता, असल चुनावी रंग दीपावली के बाद देखने को मिलेगा, जब दोनों ही प्रमुख दलों कांग्रेस और भाजपा के स्टार प्रचारक ताबड़तोड़ मैदान में उतरेंगे। सियासी दलों ने इसी हिसाब से तैयारियां की हैं। 

प्रदेश के 92 में से 84 निकायों में वर्तमान में चुनाव हो रहे हैं। इसके साथ ही छोटी सरकार के मुखिया और पार्षद-सभासद पदों पर किस्मत आजमा रहे प्रत्याशी व उनके समर्थक प्रचार अभियान में जुट गए हैं। हालांकि, इस बीच लोग दीपावली का त्योहार भी बीच में है। 

प्रत्याशियों के भाग्यविधाता मतदाता भी त्योहारी रंग में रंगे हैं। ऐसे में चुनाव प्रचार अभी उस तरह चरम पर नहीं है, जैसा पिछले चुनावों में नजर आता था। माना जा रहा कि लोगों की त्योहार की तैयारियों में खलल न पड़े, इसी कारण इस मर्तबा कुछ हिचकिचाहट भी दिख रही। 

शायद यही वजह भी है कि दोनों ही प्रमुख दलों भाजपा ने दीपावली के बाद स्टार प्रचारकों को चुनाव मैदान में झोंकने की रणनीति बनाई है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल अपने 48-48 स्टार प्रचारकों की सूची जारी कर चुके हैं। 

भाजपा सूत्रों की मानें तो उसके स्टार प्रचारक प्रकाश पर्व के बाद ताबड़तोड़ मैदान में जुटेंगे। इसकी रणनीति तैयार कर ली गई है। वहीं, कांग्रेस ने भी इसी प्रकार की रणनीति बनाई है। ऐसे में आने वाले दिनों में निकाय चुनाव में सियासी पारा चरम पर रहने के आसार हैं।

यह भी पढ़ें: चुनावी खर्च में नामांकन की फीस नहीं दिखा रहे नेताजी

यह भी पढ़ें: किन्नर रजनी रावत के मैदान में उतरने से कर्इ दिग्गजों के छूट रहे पसीने

यह भी पढ़ें: स्थानीय निकाय चुनावः खर्च का ब्योरा न देने पर 95 पार्षद प्रत्याशियों को नोटिस

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस