देहरादून, राज्य ब्यूरो। पिथौरागढ़ जिले में पिछले वर्ष नगर निकाय और फिर लोकसभा चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों की शिकायत के चलते निलंबित और निष्कासित दर्जनभर से ज्यादा कार्यकर्ताओं के लिए खुशखबरी है। पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए मतदान होने से पहले कांग्रेस ने उक्त कार्यकर्ताओं की घर वापसी कर दी है। 

पिथौरागढ़ विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस की रणनीति सबको साधकर चलने की है। ऐसे में पार्टी को अपने बागियों से भी भविष्य में साथ देने की उम्मीद है। जिला संगठन, वरिष्ठ नेताओं और पूर्व विधायक मयूख महर की सिफारिश के बाद पार्टी ने बागियों के लिए घर के दरवाजे खोलने का निर्णय लिया है। 

बीते वर्ष हुए नगर निकाय चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ काम करने के आरोप में कई स्थानीय कार्यकर्ताओं को बाहर का रास्ता दिखाया गया था। इस वर्ष लोकसभा चुनाव में भी पार्टी के खिलाफ काम करने की शिकायतों पर कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई की गई। ऐसे कार्यकर्ताओं की संख्या दर्जन से ज्यादा है। 

यह भी पढ़ें: छावनी परिषद चुनाव को लेकर तैयारी शुरू, हरकत में आए कैंट बोर्ड

जिले में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के रुख में अब बदलाव दिखाई दे रहा है। पूर्व विधायक मयूख महर ने दूरभाष पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह से वार्ता कर निलंबित और निष्कासित कार्यकर्ताओं की वापसी की पैरवी की। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने इस पर सहमति दे दी है। उन्होंने सहमति देने की पुष्टि की।

यह भी पढ़ें: रुड़की नगर निगम के चुनाव में 64.47 प्रतिशत मतदान, कुछ बूथों पर मामूली नोकझोंक

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप