विकासनगर, [जेएनएन]: नगर के कई स्कूलों में चल रहे समर कैंप में योग के माध्यम से नौनिहालों को नैतिक शिक्षा का पाठ पढ़ाया गया। साथ ही योग, आसन, संगीत, नृत्य सहित अन्य गतिविधियों के माध्यम से बच्चों के सर्वांगीण विकास करने का प्रयास किया जा रहा है। 

लाइन जीवनगढ़ स्थित सैपियंस स्कूल में चल रहे पंद्रह दिवसीय समर कैंप का समापन हुआ। समापन समारोह की शुरुआत शारदा वंदना व शिव स्तुति से हुई। उसके बाद प्रशिक्षक बीएस राय व पुष्पा के निर्देशन में छात्र-छात्राओं ने मार्शल आर्ट का प्रदर्शन किया। सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की शुरुआत श-ल-ला, तेरे मेरे, घूमर व बाहुबली गीतों पर शानदार नृत्य से हुई। प्रशिक्षक अभिषेक के निर्देशन में नौनिहालों ने जुंबा व चीप थ्रिल्स पर नृत्य कर सबका मन मोह लिया। 

इससे पूर्व पंद्रह दिनों तक चले कैंप में छात्र-छात्राओं ने नृत्य, गीत, बास्केट बाल, तैराकी, बैड¨मटन, निशानेबाजी, क्रिकेट, कला, योग विधा में अपने हुनर का प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रबंधक रविकांत सपरा, रसिता सपरा, प्रधानाचार्य आलोक विरमानी सहित समस्त शिक्षक मौजूद रहे। 

वहीं, श्रद्धा प्रिपेटरी बाल संस्कार स्कूल में कैंप का शुभारंभ करते हुए विद्यालय की प्रधानाचार्य मीना शर्मा ने कहा कि समर कैंप का मुख्य उद्देश्य बच्चों के आंतरिक व्यक्तित्व का विकास तथा उनका नैतिक व चारित्रिक उत्थान है। बच्चों की रचनात्मक प्रवृत्ति के विकास के लिए लेखन, भाषण, चित्रकारी इत्यादि के लिए इन क्षेत्रों से संबंधित विशिष्ट व्यक्तियों द्वारा इनका विस्तृत प्रशिक्षण व मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जा रहा है। बताया कि साथ ही इन विधाओं की आपस में प्रतिस्पर्धा का आयोजन भी किया जाएगा। 

पहले दिन कैंप की शुरुआत सरस्वती वंदना, गायत्री मंत्र व प्रात: स्मरण से हुई। जिसके बाद मेडिटेशन, योगासन, प्राणायाम, एरोबिक्स, नैतिक एवं आध्यात्मिक शिक्षा, अनुशासन आदि का पाठ पढ़ाया गया। कैंप में नौनिहालों को जीवनपयोगी नैतिक मूल्यों और अच्छे संस्कार पर आधारित शिक्षाएं दी जा रही हैं। प्रधानाचार्य ने बच्चों से कहा कि हरी सब्जियों, दूध, मौसमी फलों आदि में सभी पोषक तत्व होते हैं। इनका अधिक सेवन करने की सलाह दी। इस दौरान गीतिका, युग शर्मा, पूनम, निशा जॉन, चमेली अधिकारी, बीना चौहान, शशी, संजू, हेमा, सुनैना लेखवार, विनीता चौहान, सुशीला रावत आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: इन उपायों को कर आप बच सकते हैं डायबिटीज से, जानिए

यह भी पढ़ें: गुड़ से भी बनार्इ जाती है चॉकलेट, छात्रों ने सीखी बनाने की विधि

यह भी पढ़ें: बच्चों के विकास के लिए छुट्टियों में लगाए इस तरह के समर कैंप