देहरादून, जेएनएन। आयुर्वेद विश्वविद्यालय से संबद्ध निजी आयुष कॉलेजों की मनमानी के विरोध में पिछले नौ दिनों से धरने व अनशन पर बैठे छात्रों की शनिवार शाम को पुलिस के साथ तीखी झड़प हुई। पुलिस बेमियादी अनशन पर बैठे एक छात्र अजय मौर्य की तबीयत बिगड़ने पर उसे वहां से उठाने गई थी। इस दौरान धरना दे रहे अन्य छात्रों ने इसका कड़ा विरोध किया, जिस पर पुलिस ने कुछ छात्रों की पिटाई कर दी। गुस्साए छात्रों ने जमकर धक्का-मुक्की की जिससे चार छात्र घायल हो गए, जिन्हें दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किया गया। इस हंगामे के बाद अजय मौर्य की तबीयत और अधिक बिगड़ गई जिससे उसे तत्काल दून अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया।

घायल छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया। जबकि पुलिस का कहना है कि मौके पर कोई बल प्रयोग नहीं किया गया। उपचाराधीन घायल छात्रों में कुनाल कटियार, शिवम तिवारी, ललित तिवारी व अजय मौर्य ने आरोप लगाया कि शनिवार रात वह धरना स्थल पर बैठे थे। इस दौरान डालनवाला थाने से पुलिस बल पहुंचा और बेमियादी अनशन पर बैठे अजय मौर्य को जबरन उठाने लगी। छात्रों के विरोध करने पर उन पर पुलिस ने लाठियां भांजी, जिससे उन्हें चोटें आई हैं। कुनाल व ललित ने बताया कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है और उनके छाती में दर्द भी हो रहा है। जिससे चिकित्सकों ने दोनों छात्रों का एक्सरे किया।

 

पिछले 18 दिनों से आंदोलनरत हैं छात्र

विभिन्न निजी आयुष कॉलेजों में बीएएमएस व बीएमएस का कोर्स कर रहे छात्र-छात्रओं ने पहले नौ दिन तक हर्रावाला स्थित विवि के गेट पर धरना-प्रदर्शन किया। इसके बाद छात्र पिछले नौ दिन से परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर डटे हैं। मेडिकल का छात्र अजय मौर्य बेमियादी अनशन पर बैठा है। जबकि छात्र प्रगति जोशी की गुरुवार को तबीयत ज्यादा खराब होने पर अस्पताल में भर्ती किया गया था। छात्रों का कहना है कि राज्य सरकार उन आयुष कॉलेजों के पक्ष में खड़ी है जो कि न्यायालय के आदेशों की अवहेलना कर रहे हैं और बढ़ा हुआ शुल्क जमा करने को लेकर न सिर्फ छात्रों पर दवाब बनाया जा रहा है, बल्कि उनका मानसिक उत्पीड़न भी किया जा रहा है। कांग्रेस के नेता मौके पर पहुंचे और पुलिस प्रशासन के कृत्य का कड़ा विरोध किया।\

यह भी पढ़ें: आयुर्वेद छात्रों ने मांगी भीख, अनशन पर बैठी छात्र की तबीयत बिगड़ी Dehradun News

एसएसपी अरुण मोहन जोशी का कहना है कि अनशन पर बैठे एक छात्र की तबीयत बेहद नाजुक हो गई थी। उसे अस्पताल में भर्ती कराया जाना आवश्यक था। पुलिस जब उसे धरनास्थल से उठाकर वैन में बैठा रही थी तो वहां मौजूद छात्रों ने विरोध करते हुए पुलिस के साथ धक्का-मुक्की की। पुलिस ने छात्रों पर किसी तरह का बल प्रयोग नहीं किया है।

यह भी पढ़ें: आयुष कॉलेजों के खिलाफ छात्रों का बेमियादी अनशन शुरू, जानिए वजह

दून अस्पताल के डिप्टी एमएस डॉ. एनएस खत्री का कहना है कि दून अस्पताल में पुलिस रात चार छात्रों को लेकर आई। जिसमें कुनाल व ललित ने सीने में दर्द व सांस लेने में दिक्कत बताई। जिससे कुछ देर के लिए उन्हें वेंटिलेटर पर रखने के बाद दोनों छात्रों का एक्सरे किया गया। चार छात्र उपचाराधीन हैं।

यह भी पढ़ें: छात्र नेताओं ने विवि प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन, जानिए क्या है मांगे

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप