देहरादून, जेएनएन। जिले के छह विकास खंडों में शनिवार को हुए चुनाव में सहसपुर में ब्लाक प्रमुख सीमा नेगी निर्विरोध चुन ली गई। जबकि चकराता में ज्येष्ठ एवं कनिष्ठ प्रमुख पदों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ है। चकराता, कालसी, विकास नगर, रायपुर, डोईवाला में ब्लॉक प्रमुख पदों के लिए कुल 11 उम्मीदवारों ने नामांकन कराया। वहीं सभी ब्लॉकों में ज्येष्ठ प्रमुख पर 12 और कनिष्ठ प्रमुख पदों पर 16 उम्मीदवार मैदान में है।

शनिवार को क्षेत्र पंचायत चुनाव में चकराता एकमात्र ऐसा ब्लॉक रहा जहां ज्येष्ठ उपप्रमुख पद के लिए विजय पाल सिंह और कनिष्ठ उपप्रमुख पद के लिए शमशेर सिंह निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। सहसपुर में क्षेत्र पंचायत प्रमुख पद पर कांग्रेस समर्थित सीमा नेगी का निर्विरोध निर्वाचन हुआ। चकराता ब्लॉक से क्षेत्र पंचायत प्रमुख पद पर निधि राणा, शिवानी मल्ल, विकास नगर ब्लॉक से हिना परवीन व जसविंदर बिट्टू, कालसी ब्लॉक में प्रमुख पद के लिए मठौर सिंह, सरदार सिंह व किरन चौहान, रायपुर ब्लॉक में निर्मला और दिव्या भारती, डोईवाला ब्लॉक में प्रमुख के लिए भगवान सिंह पोखरियाल, राजेंद्र तड़ियाल ने नामांकन किया है।

अलग-अलग दलों से ब्लाक प्रमुख बने दंपती

आज के राजनीतिक परिवेश में जहां पार्टीबाजी के चक्कर में घरों की आपस में दुश्मनी हो जाती है, वहीं जिला पौड़ी में एक परिवार ऐसा भी है, जहां पति-पत्नी अलग-अलग प्रखंडों से ब्लॉक प्रमुख बने हैं। दिलचस्प बात यह है कि जहां पति कांग्रेस के टिकट पर प्रमुख बने हैं, वहीं उनकी पत्नी भाजपा के टिकट पर प्रमुख बनी हैं।

15 प्रखंडों वाले पौड़ी जिले में शनिवार के दिन एक दंपती खासा चर्चाओं में रहे। दरअसल, इस दंपती ने दो ब्लॉकों ने ब्लॉक प्रमुख पद कब्जाया। बात हो रही है कल्जीखाल के पूर्व ब्लॉक प्रमुख महेंद्र सिंह राणा की, जिन्होंने इस मर्तबा द्वारीखाल ब्लॉक में प्रमुख पद पर कब्जा जमाया, जबकि उनकी पत्नी बीना राणा निर्विरोध कल्जीखाल ब्लॉक की प्रमुख बनी हैं।

यह भी पढ़ें: निर्विरोध निर्वाचित चारों जिला पंचायत अध्यक्ष भाजपा की झोली में

दिलचस्प बात यह है कि जहां महेंद्र सिंह कांग्रेस के टिकट पर चुनावी दंगल में जीते, वहीं बीना भाजपा प्रत्याशी थी। राजनीतिक विश्लेषक महेंद्र सिंह के द्वारीखाल ब्लॉक से चुनाव लड़ने पर भले ही तमाम बात कर रहे हों, लेकिन निर्वाचन अधिकारी पीसी गौतम का कहना है कि महेंद्र सिंह द्वारीखाल ब्लॉक के ग्राम डल (हथनुड) के मूल निवासी हैं। स्पष्ट है कि महेंद्र सिंह ने कल्जीखाल की मतदाता सूची से नाम हटाकर अपने मूल गांव की मतदाता सूची में नाम शामिल किया, जबकि उनकी पत्नी का नाम कल्जीखाल के ग्राम चोपड़ा की मतदाता सूची में है। बहरहाल, इस दंपती ने जिले में राजनीति की नई इबारत जरूर लिखी है।

यह भी पढ़ें: जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए मधु और अंजिता में टक्कर, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप