देहरादून, जेएनएन। बैंक में अकाउंट खुलवाकर कारपोरेशन बैंक के शाखा प्रबंधक ने उपभोक्ताओं के खातों से करीब 40 लाख रुपये निकाल लिए। मामले में शहर कोतवाली पुलिस ने आरोपित बैंक मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

इंस्पेक्टर शिशुपाल नेगी के अनुसार, क्लेमेनटाउन स्थित सुभाष नगर निवासी दीपक शर्मा ने तहरीर दी कि वर्ष 2016 में वह अपनी फर्म के नाम पर लोन लेने राजपुर रोड स्थित राज प्लाजा में कारपोरेशन बैंक की मुख्य शाखा में गए थे। वहां दीपक शर्मा की मुलाकात शाखा प्रबंधक प्रवीन डंगवाल से हुई। दस्तावेज चेक करने के बाद शाखा प्रबंधक ने खाते में 15 लाख की लिमिट स्वीकृत कर दी। आरोप है कि प्रवीन डंगवाल ने विश्वास में लेकर दीपक शर्मा के खाते से लाखों रुपये का लेनदेन किया। 

प्रवीन डंगवाल का मकान हाथीबड़कला स्थित सालावाला में बन रहा था। आरोपित मकान बनवाने के लिए दीपक शर्मा से सामान ले रहा था। कुछ समय बाद आरोपित प्रवीन डंगवाल ने खाते की लिमिट 24 लाख रुपये कर दी। साथ ही दीपक शर्मा की पत्‍‌नी संगीता शर्मा का खाता खोलने के नाम पर कुछ दस्तावेजों में हस्ताक्षर करवा लिए। आरोपित ने संगीता शर्मा का खाता अभय ट्रेडिंग कंपनी के नाम से खोला और खाते से पांच लाख रुपये गैर कानूनी ढंग से निकाल लिए। 

इसी तरह दीपक शर्मा की परिचित संगीता बोरा से भी कुछ पेपर पर हस्ताक्षर यह कहकर करवा दिए कि वह लोन करवा देगा। आरोप है कि इनके खाते से भी पैसे निकाले गए। इसके बाद आरोपित प्रवीन डंगवाल ने दीपक शर्मा के भांजे शांतनु शर्मा के नाम से एक खाता खोला और खाता खोलते ही आठ लाख रुपये बिना अनुमति के निकाल लिए। 

यह भी पढ़ें: रिश्वत लेने के मामले में सीनियर बैंक मैनेजर को सात साल की कैद

इस तरह आरोपित ने तीनों खातों से करीब 40 लाख रुपये की हेराफेरी कर ली। इसी दौरान प्रवीन डंगवाल का पुणे तबादला हो गया। दूसरे मैनेजर ने खाता एनपीए हो जाने पर दीपक शर्मा की पत्‍‌नी के नाम नोटिस भेज दिया। बैंक जाने पर पता लगा कि इस धोखाधड़ी में बैंक के अन्य कर्मचारी भी शामिल थे।

यह भी पढ़ें: जमीन धोखाधड़ी में सचिन उपाध्याय पर एक और केस दर्ज Dehradun News

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस