ऋषिकेश, जेएनएन। ऋषिकेश की कृष्णा नगर कॉलोनी में पेयजल की व्यवस्था न होने पर गुस्साए नागरिकों ने जन कल्याण समिति  के बैनर तले जल संस्थान कार्यालय के सामने धरना दिया। कृष्णा नगर कॉलोनी में करीब डेढ़ हजार लोग रहते हैं। यहां 200 परिवारों के पास पानी का कनेक्शन नहीं है। शासन के दिशा-निर्देश पर जल निगम ने यहां पेयजल योजना का सर्वे किया गया था, जिसके लिए करीब पांच करोड़ रुपए का एस्टीमेट बनाकर विभाग के द्वारा तकनीकी सलाहकार समिति को भेज दिया गया है।  

जल संस्थान के द्वारा योजना स्वीकृत होने तक यहां सार्वजनिक हैंडपंप से मोटर लगाकर संबंधित परिवारों को अस्थाई कनेक्शन दिए जाने का आश्वासन दिया गया था। सहायक अभियंता अनिल नेगी ने टीम के साथ पूरे इलाके का दौरा भी किया था। समिति के मुख्य संरक्षक डॉ. बीएन तिवारी ने बताया कि जल संस्थान अब अपनी बात से मुकर रहा है और सारी जिम्मेदारी जल निगम के ऊपर डाली जा रही है।

उन्होंने इस मामले में कुछ जनप्रतिनिधियों के खिलाफ विभाग पर दवा बनाने का आरोप भी लगाया है। उनका कहना है कि नगर निगम बोर्ड के द्वारा कृष्णा नगर को नगर निगम में शामिल किए जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नगर निगम के कार्यक्रम में इस पर घोषणा भी कर चुके हैं। बावजूद इसके यहां लोगों को पेयजल की सुविधा से वंचित रखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कृष्णा नगर कॉलोनी के वासियों की समस्या, एक बाल्टी पानी भरने में करना पड़ता घंटों इंतजार

प्रदर्शन के दौरान कृष्णा नगर वासियों ने शारीरिक दूरी का पालन करते हुए यहां धरना दिया है। धरना देने वालों रामवृक्ष तिवारी, सनी वर्मा, गुलाब वर्मा, योगेंद्र कुमार, ऋषि कुमार, दीपक कुमार, विभा मौर्य, लक्ष्मी देवी, गीता थापा आदि धरने में मौजूद रहे थे।   

यह भी पढ़ें: विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने पेजयल समस्या से प्रभावित गांवों का किया दौरा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021