मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। रिंकू और कामना डबल मर्डर केस सस्पेंस से भरपूर है। उससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात यह कि अशोक डेढ़ साल से कामना को रास्ते से हटाने की प्लानिंग करता रहा और किसी को शक नहीं हुआ। यहां तक की रिंकू की हत्या के बाद जब रिंकू किसी के सामने नहीं आया तो भी किसी को अटपटा नहीं लगा। 

दरअसल, अशोक के हर झूठ को न सिर्फ कामना ने सच मानने की गलती की,  बल्कि उसके और रिंकू के परिवार वाले भी अशोक के बुने झूठ के जाल में फंस कर उसकी बातों पर यकीन करने लगे थे। जब तक हकीकत सामने आती, तब तक दो जिंदगियां मौत के मुंह में जा चुकी थीं। 

रिंकू-कामना डबल मर्डर केस की गुत्थी तो सुलझ चुकी है। एक साल पहले से कामना को रास्ते से हटाने की साजिश में पहले रिंकू की हत्या की गई और उसके जिंदा होने का अशोक दिखावा करता रहा, उससे पुलिस कई और सवालों के जवाब तलाशने में जुटी है। 

इसके लिए नेहरू कॉलोनी पुलिस ने शुक्रवार को रिंकू के भाई और बहन से पूछताछ की। उनसे जानने की कोशिश की कि नवंबर 2018 से रिंकू जब कभी सामने नहीं तो उन्हें शक क्यों नहीं हुआ। जवाब था कि रिंकू ने वैसे भी घर आना-जाना बंद कर दिया था और उधर अक्सर यह भी खबर आती रहती थी कि रिंकू, अशोक और कामना के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। ऐसे में उन्होंने इन बातों पर बहुत ध्यान नहीं दिया। 

पूछताछ में यह भी बात सामने आई कि अशोक अक्सर अपने परिजनों से कहता कि आज रिंकू रास्ते में मिला था, उसने उसे मारने की कोशिश की। एक बार तो उसने यह भी कहा कि रिंकू ने उसे बाइक से धक्का देकर मारने की कोशिश की। यहां तक एक बार उसने पुलिस को भी फोन कर बताया था कि रिंकू ने उस पर हमला किया है। 

इस तरह वह हर दिन रिंकू को लेकर कुछ न कुछ झूठ फैलाता और सब उस पर यकीन करते जा रहे थे। यही नहीं, अशोक रिंकू और कामना के बीच भी मनमुटाव पैदा करने में कामयाब हो गया था। हालात यह हो गए थे कामना अशोक की बातों पर यकीन कर यह मानने लगी थी कि रिंकू न सिर्फ उसकी जान का दुश्मन बन बैठा, बल्कि उसके मायके वाले भी रिंकू के नाम सुनते ही दहशत में आने लगे थे। 

यही वजह थी कि जब कामना की हत्या हुई और उसके भाई ने रिंकू के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी। पुलिस भी झूठ को सच मान बैठी और रिंकू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। इसकी एक वजह यह भी रही कि कामना की हत्या का एकमात्र चश्मदीद गवाह अशोक ही था। ऐसे में असल कहानी सामने आने तक पुलिस के सामने भी अशोक के झूठ को सच मानने के सिवा कोई रास्ता नहीं था। 

अशोक से सवालों की फेहरिस्त तैयार 

अशोक उर्फ कपिल रोहिला से पूछताछ के लिए नेहरू कॉलोनी पुलिस ने शुक्रवार को सीजेएम कोर्ट में प्रार्थना पत्र दे दिया। इस अनुमति मिलने के बाद पुलिस जेल में न्यायिक अभिरक्षा में रखे गए अशोक से लंबी पूछताछ कर सकती है। पुलिस ने अशोक से किए जाने वाले सवालों की फेहरिस्त तैयार कर ली है। करीब डेढ़ सौ सवालों में वे प्रश्न भी शामिल हैं, जिनका शूटर गौरव से पुलिस को नहीं मिल सका है। 

इलाज करने वाले डाक्टरों के बयान दर्ज 

कामना की हत्या बाद पुलिस को गुमराह करने के लिए गौरव ने अशोक को भी पेट में गोली मार दी थी। उसे महंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां उसका इलाज करने वाले डाक्टरों के भी पुलिस ने बयान दर्ज किए। वहीं, पुलिस ने गौरव को गुरुवार को जेल में दाखिल कर दिया। वह सात दिन की कस्टडी रिमांड पर था। 

इसमें से पांच दिन के दौरान राजस्थान में रिंकू के शव का पता लगाने के साथ जिस गाड़ी उसे उसे राजस्थान तक ले जाया गया, उसकी बरामदगी पुलिस के लिए काफी अहम रही। 

छोटे पर्दे पर दिखेगी डबल मर्डर मिस्ट्री 

रिंकू-कामना हत्याकांड की साजिश शक, झूठ, तिरस्कार और लालच की बुनियाद पर रची गई। इसका मास्टरमाइंड अशोक था, जिसकी सच्चाई आने के बाद हर किसी की जुबान पर केवल यही था कि ऐसा भी हो सकता है क्या? कैसे कोई अपनी पत्नी की जान लेने के लिए इतने दिनों तक झूठ का जाल बुनता रहा और किसी को शक नहीं हुआ। 

सस्पेंस से भरपूर इस डबल मर्डर मिस्ट्री को लेकर आने वाले दिनों में छोटे पर्दे पर सीरियल भी बन सकते है। सूत्रों की मानें तो कुछ चैनल वालों ने इसे लेकर पुलिस से संपर्क भी किया है। 

सामने आ सकते हैं नए तथ्य 

देहरादून के एसएसपी अरुण मोहन जोशी के मुताबिक, रिंकू और कामना हत्याकांड की साजिश बेनकाब हो चुकी है। अब तक की जांच में सामने आए तथ्यों की एक से दूसरे से कड़ी जोड़ने पर जांच चल रही है। अशोक से जेल में पूछताछ की जाएगी, जिसमें कुछ और नए तथ्य सामने आ सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: रिंकू की पहचान को मां का डीएनए सैंपल लेगी पुलिस Dehradun News

यह था मामला 

29 अगस्त की रात को माता मंदिर रोड स्थित बुटीक संचालिका कामना रोहिला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दौरान कामना के पति अशोक के पेट पर भी लोगी लगी थी। इस मामले में पुलिस कामना के पति अशोक और उसके दोस्त गौरव शर्मा व दीपक को गिरफ्तार कर चुकी है। तीनों सुद्धोवाला जेल में बंद हैं। 

यह भी पढ़ें: बुआ के बेटे रिंकू की हत्या में अशोक और उसके दोस्तों पर मुकदमा Dehradun News

कामना की हत्या के खुलासे के बाद अशोक की बुआ के बेटे रिंकू की हत्या का राज भी पुलिस ने खोला था। वह कामना की हत्या का आरोप अपनी बुआ के बेटे रिंकू पर मढ़ रहा था, जबकि रिंकू की हत्या पहले हो चुकी थी। इस मामले में भी अशोक और उसके दोस्तों की साजिश सामने आई। 

यह भी पढ़ें: पत्नी हत्या के बाद ही खुला बुआ के बेटे की हत्या का राज Dehradun News

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप