Move to Jagran APP

UP News: 300 साल पुराना शंख, खंडित मूर्तियां और शिलालेख...सहारनपुर में कुएं की खुदाई में क्या-क्या मिला...

मंदिर परिसर के कुएं की खुदाई मंदिर में खुदाई के दौरान कुएं से बड़ा शिवलिंग गणेश जी हनुमान जी माता पार्वती और नंदी महाराज की मूर्ति खंडित अवस्था में मिली थी। कुछ शिलालेख भी मिले थे। एक बड़ा शंख भी मिला। प्रशासन द्वारा भारतीय पुरातत्व विभाग को मंदिर के कुएं से निकली मूर्तियों व शिलालेख के बारे में रिपोर्ट भेजी जा रही है। कुएं की खुदाई का काम बंद है।

By Sanjeev Kumar Gupta Edited By: Abhishek Saxena Wed, 14 Feb 2024 11:54 AM (IST)
300 साल पुराना शंख, खंडित मूर्तियां और शिलालेख, सहारनपुर में कुएं की खुदाई में क्या-क्या मिला।

जागरण संवाददाता, सहारनपुर। सिद्धपीठ बाग शिवाला श्री गोटेश्वर महादेव मंदिर के कुएं की खुदाई के दौरान प्राचीन शिवलिंग के अलावा कई मूर्तियां खंडित अवस्था में मिली। मंदिर समिति द्वारा कुएं में पानी की तलाश के लिए यह खुदाई कराई जा रही है।

मंडी समिति रोड गोटेशाह चुंगी स्थित मंदिर परिसर में स्थित पुराने कुएं की खुदाई मंदिर समिति द्वारा शनिवार को शुरू कराई गई थी। समिति के महामंत्री अमित पंडित के अनुसार भूमि तल से 15 फुट के नीचे अभी तक छह फुट की खुदाई कराई गई है। खुदाई के दौरान बड़ा शिवलिंग, गणेश जी, हनुमान जी, माता पार्वती और नंदी महाराज की मूर्ति खंडित अवस्था में मिली है। कुछ शिलालेख भी मिले हैं। एक बड़ा शंख भी मिला है।

समिति का प्रयास है कि कुएं में जल निकलने तक उसकी खुदाई जारी रखी जाए। उन्होंने बताया कि पुजारी एकता परिषद द्वारा समिति को आश्वस्त किया गया है कि पूजा-अर्चना के बाद मंदिर में फिर से मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा कराई जाएगी।

मराठाकालीन है मंदिर

यह मंदिर मराठाकालीन है और इसका निर्माण 17वीं शताब्दी में हुआ था, जिसका प्रमाण राजस्व अभिलेखों में भी है। खुदाई का काम लगातार जारी रहेगा। समिति के अध्यक्ष अनिल त्यागी ने बताया कि मंदिर परिसर में गुप्त तहखाना भी है। मंदिर समिति खुदाई के काम को पूरी तत्परता और सुरक्षा के बीच करा रही है। यह मंदिर 35 वर्षाें से बंद पड़ा था। 11 दिसंबर 2020 में जिला प्रशासन द्वारा विश्व हिंदू परिषद की मांग पर प्रबुद्ध लोगों को देखरेख के लिए सौंपा गया था। 

ये भी पढ़ेंः UP Crime News: 21 मुकदमे 25 हजार का इनाम; रामपुर पुलिस से हो गई रात में मुठभेड़, फायरिंग में बदमाश का हुआ कुछ ऐसा हाल

टीम ने देखीं मूर्तियां

सिद्धपीठ बागशिवाला श्री गोटेश्वर महादेव मंदिर के प्राचीन कुएं की खुदाई से निकली मूर्तियों व शिलालेख आदि को देखने के लिए जिलाधिकारी के निर्देश पर प्रशासनिक टीम पहुंची। टीम ने मंदिर समिति के पदाधिकारियों से बातचीत के बाद फिलहाल खुदाई बंद करा दी। उन्होंने भारतीय पुरातत्व विभाग को इस मामले में संस्तुति भेजने का आश्वासन दिया।

कुएं में बंद है खुदाई

सोमवार को जिलाधिकारी डा.दिनेश चंद्र के निर्देश पर सिटी मजिस्ट्रेट गजेंद्र कुमार व एसडीएम सदर युवराज सिंह के साथ लेखपाल आदि पहुंचे। उन्होंने मंदिर समिति के महामंत्री अमित पंडित से कुएं की खुदाई से निकली मूर्तियों व शिलालेख आदि के बारे में जानकारी ली। कुएं,मंदिर भवन की छत सहित व मूर्तियों आदि को देखा। अधिकारियों ने कहा कि फिलहाल कुएं की खुदाई बंद करा दी जाए।

ये भी पढ़ेंः Agra News: पीएम रिपोर्ट में सामने आया मौत का कारण और समय, तरुण ने रात में ही मां बेटे को मार दिया था...और फिर सुबह किया सुसाइड

डीएम से समिति ने की मांग

सिद्धपीठ बाग शिवाला श्री गोटेश्वर महादेव मंदिर समिति के अध्यक्ष अनिल त्यागी व महामंत्री अमित पंडित द्वारा जिलाधिकारी डा.दिनेश चंद्र को पत्र देकर अनुरोध किया था कि मंदिर के प्राचीन कुएं की खुदाई के समय मूर्तियां, शिलालेख एवं शिवलिंग निकला था। समिति ने जिलाधिकारी से मांग की कि भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा प्राचीन मंदिर की जांच कराई जाए।