Move to Jagran APP

Modi 3.0 Cabinet: सस्पेंस हुआ खत्म, चौधरी चरण सिंह-अजित सिंह के बाद अब जयन्त चौधरी बनेंगे मोदी सरकार में मंत्री

Modi 3.0Cabinet में जयन्‍त चौधरी को भी आया फोन बनेंगे मंत्री। बता दें कि आएनडीआइए की बैठकों में शामिल होते-होते रालोद अध्यक्ष एवं राज्यसभा सदस्य जयन्त चौधरी अचानक भाजपा के साथ हो लिए थे। रालोद मुखिया जयन्त चौधरी ने 2021 में पार्टी की कमान संभाली थी। उन्होंने लोकसभा चुनाव में गठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए के साथ रिश्ता जोड़ा था।

By Jagran News Edited By: Abhishek Saxena Published: Sun, 09 Jun 2024 12:01 PM (IST)Updated: Sun, 09 Jun 2024 12:01 PM (IST)
Modi 3.0 Cabinet: जयन्‍त चौधरी को भी आया फोन, बनेंगे मंत्री

जागरण संवाददाता, बागपत। एनडीए सरकार के शपथ ग्रहण समारोह के लिए रालोद अध्‍यक्ष एवं राज्‍यसभा सदस्‍य जयन्‍त चौधरी को भी फोन आया है। उन्‍हें मंत्री बनाया जा रहा है। जयन्‍त की पार्टी रालोद का लोकसभा चुनाव में शत-प्रतशित परिणाम रहा।

रालोद ने अपने कोटे की दोनों सीटें बागपत और बिजनौर पर जीत दर्ज की। वैसे तो रालोद और भाजपा का गठबंधन होते ही तय हो गया था कि सरकार बनने पर जयन्‍त को केंद्र में मंत्री पद दिया जाएगा। अब भाजपा को उम्‍मीद के मुताबिक सफलता न मिलने पर घटक दलों का महत्‍व अधिक बढ़ गया है। जयन्‍त के केंद्र में मंत्री बनने से चौधरी चरण सिंह प‍रिवार को दस साल का इंतजार खत्‍म होगा।

बाबा, पिता के बाद अब जयन्त की बारी

पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पोते जयन्त चौधरी के मंत्रिमंडल में शामिल होने का यह पहला अवसर होगा। इससे पहले वे कभी मंत्री नहीं रहे। जयन्त के पिता अजित सिंह चार सरकारों में मंत्री रहे। 2001 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में कृषि मंत्री बने।

वीपी सिंह, पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह सरकार में भी वाणिज्य एवं उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण और नागरिक उड्ययन जैसे मंत्रालयों को संभाला। अजित सिंह 2011 से 2014 तक नागरिक उड्ययन मंत्री रहे थे। इस तरह इस परिवार के लिए 10 साल बाद फिर से मंत्री बनने का अवसर आया है।

ये भी पढ़ेंः Iqra Hasan; कैराना से सांसद बनने के बाद परेशानी में इकरा हसन; 'लखनऊ से लौटकर सबसे पहले करेंगी ये काम'

फरवरी 2024 में ढलती सर्दियों में हुए इस बड़े राजनीतिक घटनाक्रम की शुरुआत चौ. चरण सिंह को भारत रत्न देने से हुई। जयन्त ने एक्स पर लिखा 'दिल जीत लिया' और फिर जो हुआ वह इतिहास बन गया। समझौते के तहत लोकसभा चुनाव में रालोद को दो सीटें बागपत और बिजनौर मिलीं। रालोद ने दोनों सीटें जीतकर राजग में अपनी भूमिका रेखांकित कर दी।

ये भी पढ़ेंः UP Politics: सैफई ने बहू डिंपल पर ऐसा प्यार लुटाया कि बसपा चारों खाने चित, योगी सरकार के मंत्री वोट को तरसे

लंदन स्‍कूल ऑफ इकोनामिक्‍स से पढ़े, 2021 में संभाली पार्टी की कमान

जयन्‍त चौधरी ने दिल्ली विश्वविद्यालय के श्री वेंकटेश्वर कालेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और 2002 में लंदन स्कूल आफ इकोनामिक्स एंड पालिटिकल साइंस से अकाउंटिंग और फाइनेंस में मास्टर डिग्री प्राप्त की। 2021 में कोविड-19 संक्रमण के कारण अजित सिंह की मृत्यु के बाद जयन्‍त ने रालोद की कमान संभाली। उनका जन्म 27 दिसंबर 1978 को डलास, अमेरिका में हुआ था।

जयन्‍त का विवाह चारू चौधरी से हुआ है और उनके दो बच्चे हैं। जयन्‍त चौधरी 15वीं लोकसभा में उत्तर प्रदेश के मथुरा से सांसद थे। उन्‍होंने 2014 में मथुरा से चुनाव लड़ा था, हालांकि वह भाजपा उम्मीदवार हेमा मालिनी से हार गए थे। 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.