नई दिल्ली, टेक डेस्क। क्या आपका डाटा सुरक्षित है? हमारा डाटा आज के समय में कहीं भी सुरक्षित नहीं है। इतनी ही नहीं, आज के समय में ग्लोबल लेवल पर सबसे ज्यादा डाटा सिक्योरिटी को लेकर ही बात होती है। पूरी दुनिया की सरकारी संस्थाएं डाटा को सिक्योर करने के लिए बड़े कदम उठा रही हैं। क्या इंटरनेट ऑफ थिंग्स के समय में पूरे डाटा को सुरक्षित करना आसान है?

आपने शायद कभी सोचा भी ना हो की गूगल क्रोम और फायरफॉक्स के एक्सटेंशन्स से कई मिलियन यूजर्स का डाटा लीक हो सकता है, लेकिन ऐसा हुआ है। क्रोम और फायरफॉक्स एक्सटेंशन से कई मिलियन यूजर्स का डाटा Nacho analytics नाम की कंपनी को लीक हुआ है। Nacho Analytics को मिला डाटा किसी भी वेबसाइट के एनालिटिक्स डाटा को अनलिमिटेड एक्सेस देता है।

इस डाटा में है क्या?

डाटा में सभी जानकारी मौजूद होती है। इसमें ब्राउजिंग हिस्ट्री से लेकर टैक्स रिटर्न्स, मेडिकल रिकार्ड्स, क्रेडिट कार्ड की जानकारी, बिजनेस डाक्यूमेंट्स, प्रेजेंटेशन स्लाइड्स और पब्लिक डोमेन में मौजूद सभी सेंसिटिव जानकारी मौजूद होती है। हम जो एक्सटेंशन्स एड को ब्लॉक करने के लिए इस्तेमाल करते हैं, उन्हें क्रोम और फायरफॉक्स के जरिए कंज्यूमर का डाटा चोरी करने के लिए इस्तेमाल किया गया है।

हमारा डाटा की कीमत क्या है?

एक साइबरसिक्योरिटी रिसर्चर सैम की रिपोर्ट के अनुसार, डाटा को 10$ से लेकर 50$ में खरीदा जाता है। रिपोर्ट के अनुसार, 8 ब्राउजर एक्सटेंशन्स ने पर्सनल डाटा को लीक किया है। इस डाटा में व्हीकल आइडेंटिफिकेशन, हाल ही में खरीदे व्हीकल की डिटेल्स, खरीदार का नाम और पता आदि की जानकारी मौजदू थी।

ब्राउजर एक्सटेंशन्स क्या होते हैं?

एक्सटेंशन हमें किसी भी फंक्शन को चलने के लिए और इन्टॉल करने में मदद करते हैं। गूगल और फायरफॉक्स ने कहा है की इन एक्सटेंशन्स को डिसएबल किया जा चुका है और अब यह डाउनलोड के लिए उपलब्ध नहीं है। तो क्या, जो लोग अपने सिस्टम में एक्सटेंशन्स डाउनलोड कर रहे हैं, उन्ही का डाटा लीक किया जा सकता है? नहीं, ऐसा नहीं है। आपकी जानकारी तब भी लीक हो सकती है, जब आपने कोई एक्सटेंशन डाउनलोड ना किया हो। इन लोगों से आप अपनी जानकारी शेयर करते हैं, शायद उन लोगों ने अपने कंप्यूटर पर एक्सटेंशन डाउनलोड किया हो, इस तरह से आपका डाटा भी सुरक्षित नहीं रह जाता। कहा जाए, तो किसी का डाटा सुरक्षित नहीं है।

क्या है Nacho Analytics?

यह वेब एनालिटिक्स प्रदाता कंपनी है, जो रियल-टाइम वेब एनालिटिक्स के लिए किसी भी वेबसाइट को किसी की भी अकाउंट की जानकारी उपलब्ध करवाती है। इसके अलावा, कंपनी हर डोमेन से मासिक $49 लेती है। यह राशि टॉप 5000 सबसे ज्यादा ट्रैफिक वाली वेबसाइट्स को मॉनिटर करने के लिए लेती है।

अब कंज्यूमर्स को क्या करना चाहिए?

एक्सपर्ट्स के अनुसार, कंज्यूमर्स को अपने सिस्टम में मौजूद सभी ब्राउजर एक्सटेंशन्स को अनइंस्टाल और डिलीट कर देना चाहिए।

यह भी पढ़ें:

Redmi का नया फोन 48MP नहीं बल्कि 64MP कैमरा सेंसर से होगा लैस!

वर्ष 2020 में लॉन्च होने वाले iPhone में दिया जा सकता है ProMotion डिस्प्ले

Samsung Galaxy M30, Galaxy M20, Galaxy M10 कई डिस्काउंट और ऑफर्स के साथ Amazon पर उपलब्ध

Posted By: Sakshi Pandya

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप