नई दिल्ली, टेक डेस्क। माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स ने एंड्रॉइड और गूगल को लेकर अपनी गलती की जानकारी दी है। बिल गेट्स ने कहा है कि नॉन एप्पल फोन फॉर्म प्लेटफॉर्म लॉन्च न करना और एंड्रॉइड के लिए गूगल को मौका देना उनकी सबसे बड़ी गलती थी। ऐसा इसलिए क्योंकि एंड्रॉइड OS लॉन्च कर कंपनी दूसरी कंपनियों को पीछे छोड़ आगे निकल गई है। बिल गेट्स के मुताबिक, अगर उन्होंने इस OS को बनाने की पहल की होती या फिर पूंजी लगाई होती तो इस समय माइक्रोसॉफ्ट सबसे बड़ी कंपनी होती। आपको बता दें कि गूगल ने वर्ष 2005 में एंड्रॉइड को 5 करोड़ डॉलर में खरीदा था। इस समय यह सबसे लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम है।

माइक्रोसॉफ्ट रहा एंड्रॉइड और iOS से पीछे: विंडोज फोन में माइक्रोसॉफ्ट अपना ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध कराता था। हालांकि, यह यूजर्स के बीच एंड्रॉइड और iOS जितना लोकप्रिय नहीं हो पाया। इसी के चलते वर्ष 2017 में इसे कंपनी ने बंद कर दिया। एंड्रॉइड और iOS के मुकाबले माइक्रोसॉफ्ट का अपना सॉफ्टवेयर दमदार नहीं था। आपको बता दें कि एंड्रॉइड और iOS पर काम करने वाली ऐप्स की संख्या काफी ज्यादा है।

अगर आप नया स्मार्टफोन खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो Pixel सीरीज के हैंडसेट अच्छा विकल्प हैं। Google Pixel 3 XL या Google Pixel 3 खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो इन लिंक्स पर क्लिक करें।

वर्ष 2005 में गूगल ने एंड्रॉइड का किया था अधिग्रहण: एंड्रॉइड के गूगल को बेचे जाने से पहले यह इंडीपेंडेंट प्लेटफॉर्म था। इसके बाद वर्ष 2005 में गूगल ने इसे 50 मिलियन डॉलर में खरीदा था। Verge की एक रिपोर्ट में बताया गया था कि गूगल के पूर्व सीईओ Eric Schmidt का मुख्य फोकस माइक्रोसॉफ्ट के शुरुआती मोबाइल एफर्ट को पीछे छोड़ना था।

Galaxy A50 में ट्रिपल रियर कैमरा समेत 4000 एमएएच की बैटरी दी गई है। यह फोन भी फीचर्स और कीमत के हिसाब से परफेक्ट विकल्प है। नई कीमत पर इसे खरीदने के लिए क्लिक करें यहां

यह भी पढ़ें:

90 फीसद तक बायबैक गारंटी के साथ HONOR 20 दोपहर 12 बजे से Flipkart पर होगा उपलब्ध

एक छोटी-सी गलती आपको बना सकती है ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार, जानें कैसे बचें

Redmi 7A बनाम Realme C2: जानें बजट स्मार्टफोन की जंग में कौन रहा बेहतर 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Shilpa Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप