नई दिल्ली (टेक डेस्क)। Facebook फेक न्यूज से बेहतर तरीके से लड़ने और अपने प्लेटफार्म पर कंटेंट की क्वालिटी बढ़ाने के लिए नई जनरेशन के डिजिटल-दौर के पत्रकारों और न्यूज पब्लिशर्स को हायर कर सकता है। फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने Mathias Dopfner, Europe’s largest publisher Axel Springer के सीईओ किस तरह प्लेटफार्म को दुनिया में मौजूद अपने 2 बिलियन यूजर्स के लिए हाई-क्वालटी न्यूज बनानी चाहिए।

जकरबर्ग ने कहा - इसका पता नहीं है की फेसबुक पर कितने फेक अकाउंट्स हैं, लेकिन ऐस अलगता है की बड़ी मात्रा में इस तरह के अकाउंट्स फेसबुक पर है। कुछ लोगों का कहना है की इसका आंकड़ां 700 मिलियन का है। मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है लेकिन यह एक गंभीर समस्या है और इससे निपटना बहुत जरुरी है।

उन्होंने कहा - हमें इन्वेस्टिगेटिव पत्रकारों, संवाददाता, बड़े विदेशी नेटवर्क्स को फाइनेंस करने के लिए एक बिजनेस को क्रम में लाने की जरुरत है, क्योंकि वो यह फ्री में है कर सकते हैं।

जकरबर्ग ने कहा- वो फेसबुक के ढांचे पर फोकस करेंगे की किस तरह वो पत्रकारों, ब्लोगर्स,पब्लिशर्स के लिए इतना सही बने की वो प्लेटफार्म पर अपना बेस्ट कंटेंट डालें। हम न्यूज बनाने के लिए पत्रकार नहीं रखेंगे। हम बस यह सुनिश्चित करना चाहते हैं की इस प्रोडक्ट पर यूजर्स को हाई-क्वालिटी न्यूज मिले। हो सकता है की फेसबुक पब्लिशर्स से सीधे कांटेक्ट रखे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके की कंटेंट हाई-क्वालिटी का है।

ऑनलाइन सोशल मीडिया और सोशल नेटवर्किंग सेवा कंपनी फेसबुक फिलहाल अपने प्लेटफार्म पर मौजूद फेक और भटकाने वाली न्यूज से लड़ रही है। खासतौर पर चुनाव के दौरान ऐसी ख़बरों की संख्या में इजाफा हो जाता है। भारत में फेसबुक हजारों की संख्या में फेक अकाउंट्स, राजनैतिक पार्टियों से जुड़े ग्रुप्स और पेज डिलीट कर चुका है।

(यह खबर IANS के हवाले से लिखी गई है)

यह भी पढ़ें:

Warning! Google ने प्ले स्टोर से रीमूव की 200 से ज्यादा मालवेयर ऐप्स, तुरंत करें इन्हें डिलीट

Huawei P30 Lite और P30 Pro अगले सप्ताह भारत में होंगे लॉन्च, Samsung S10 सीरीज से है मुकाबला

Inbox by Google के बंद होने के बाद लॉन्च हुई Spark Email ऐप, जानें फीचर्स

Posted By: Sakshi Pandya