नई दिल्ली(टेक डेस्क)। भारत में 15000 रुपये के सेगमेंट में काफी कंपनियां और स्मार्टफोन्स आ गए हैं। इस प्राइज रेंज में लेनोवो से लेकर शाओमी, आसुस, हॉनर, सैमसंग, वीवो, ओप्पो जैसी तमान कंपनियां अपने हैंडसेट्स पेश कर रही है। हर कंपनी फोन में कुछ-ना-कुछ खास लाकर उपभोक्ताओं को आकर्षित करने की पूरी कोशिश में है। इस सेगमेंट में शाओमी लगातार आगे बढ़ रही है। कंपनी किफायती दाम में बेहतर स्पेसिफिकेशन्स ऑफर करती है। इसके फोन डिजाइन के मामले में भी यूजर्स को पसंद आते हैं। इस कंपनी और इसके किफायती हैंडसेट की टक्कर में ताइवानी कंपनी आसुस ने जेनफोन मैक्स प्रो M1 भारत में लॉन्च किया है। तीन स्टोरेज वैरिएंट्स के साथ फोन मात्र 10999 रुपये की शुरूआती कीमत में पेश किया गया है। इतनी कम कीमत में आसुस ने बाजार और यूजर्स के बीच जगह बनाने का पूरा प्रयास किया है।

हमें डिवाइस को रिव्यू करने का मौका मिला तो जानते हैं फोन की लुक्स, परफॉरमेंस आदि के बारे में:

जेनफोन मैक्स प्रो M1 डिजाइन: सबसे पहले फोन के डिजाइन की बात करते हैं। आसुस ने इस फोन को काफी बेसिक डिजाइन में रखा है। कहा जा सकता है की यूजर्स को आकर्षित करने के लिए डिजाइन में कंपनी ने कुछ नया नहीं किया है। ऐसा डिजाइन आपने पहले भी कई स्मार्टफोन्स में देखा होगा। फोन के रियर पर ड्यूल रियर कैमरा सेटअप दिया गया है। कैमरा की लुक के मामले में आसुस ने शाओमी के रेडमी नोट 5 को मात दी है। इसके अलावा फोन के रियर पर फिंगरप्रिंट सेंसर भी दिया गया है। फोन के बांयी ओर ट्रिपल स्लॉट ट्रे दी गई है। डिजाइन के मामले में फोन ने कुक खास ऑफर नहीं किया।

डिस्प्ले: फोन में 5.99 इंच FHD+ स्क्रीन दी गई है। डिस्प्ले में अडेप्टिव ब्राइटनेस, नाइट लाइट जैसे फीचर उपलब्ध हैं। डिस्प्ले के बारे में बात करें तो इसमें कोई परेशानी देखने को नहीं मिली। इमेजेज शार्प थी ओर उसके पिक्सल फट नहीं रहे थे। डिस्प्ले के मामले में फोन ठीक रहा।

परफॉरमेंस: आसुस जेनफोन मैक्स प्रो M1 और शाओमी रेडमी नोट 5 प्रो में एक चीज और समान है। दोनों में क्वालकॉम स्नैपड्रगन 636 प्रोसेसर दिया गया है। इस प्रोसेसर के साथ फोन में 3GB रैम और 32GB इंटरनल स्टोरेज दी गई है। रोजमर्रा के आम टास्क करने में फोन में किसी तरह की परेशानी देखने को नहीं मिली। कॉल क्वालिटी और ऑडियो क्वालिटी दोनों ही सही रहीं। फोन एंड्रॉयड के स्टॉक वर्जन और लेटेस्ट एंड्रॉयड 8.1 ओरियो पर कार्य करता है। फोन में लेटेस्ट ओएस होने इसका एक प्लस प्वाइंट है।

कैमरा: फोन के रियर पर ड्यूल कैमरा सेटअप दिया गया है। सेटअप में 16MP+5MP के सेंसर हैं। फ्रंट में 16MP का सेल्फी कैमरा दिया गया है। कीमत के हिसाब से कैमरा स्पेक्स काफी औसत है। इस तरह के स्पेक्स अमूमन काफी समय पहले मोबाइल्स में दी जाती थीं। लेकिन डिवाइस स्नैपड्रगन एप इंटरफेस के साथ आती है। इससे कैमरा मोड्स, फिल्टर्स, सेटिंग्स समेत अन्य फीचर्स का इस्तेमाल आसान हो जाता है। इमेज क्वालिटी भी औसत कही जा सकती है। अगर बेहतर लाइटिंग के सात पिक्चर्स क्लिक करेंगे तो उसमे कोई परेशानी है आएगी। बोकेह इफेक्ट भी ठीक से काम करता है। इंडोर में पिक्चर्स इतनी क्लियर नहीं आती। सेल्फी के ट्रेंड के बाद स्मार्टफोन्स में फ्रंट कैमरा को लेकर कंपनियां और सजग हो गई हैं लेकिन आसुस ने फ्रंट कैमरा में भी कोई कमाल नहीं दिखाया।

बैटरी: फोन की बैटरी इसकी यूएसपी है। फोन में 5000 mAh की बैटरी दी गई है। जहां आज भी अच्छी से अच्छी स्पेक्स वाले फोन्स की बैटरी पूरा एक दिन भी नहीं चल पाती। वहीं, आसुस का यह फोन औसत इस्तेमाल के बाद लगभग दो दिन आसानी से चल जाता है।

हमारा फैसला: 10999 रुपये के सेगमेंट में फोन लॉन्च कर के आसुस ने एंट्री-लेवल स्मार्टफोन्स के क्षेत्र में कमबैक किया है। 3GB रैम/32GB स्टोरेज वैरिएंट के अलावा फोन 4GB रैम/64GB स्टोरेज वैरिएंट में भी आता है। इसकी कीमत 12999 रुपये है। आसुस जेनफोन मैक्स प्रो M1 की खासियत इसकी बैटरी और लेटेस्ट ओएस है। वहीं, कैमरा और डिजाइन अगर बेहतर होता तो स्मार्टफोन एक अच्छा पैकेज बन सकता था। इससे सही मायनों में शाओमी की नोट सीरीज के एकाधिकार को तोड़ा जा सकता था। लेकिन फिर भी आसुस का यह हैंडसेट नोट 5 सीरीज को टक्कर जरूर देगा।

यह भी पढ़ें: 

क्वालकॉम मिड-रेंज एंड्रॉयड फोन्स को नई चिप 'स्नैपड्रैगन 710' से बनाएगा और पॉवरफुल, पढ़ें खास फीचर्स

लेनोवो Z5 देगा 45 दिनों का स्टैंड-बाय बैकअप और 4TB स्टोरेज, पढ़ें अन्य खासियतें

भारत फिशिंग अटैक का सामना करने वाले देशों में टॉप 3 में शामिल, ऐसे बचें

Microwave खरीदने से पहले इन बातों का जरूर रखें ध्यान, सही प्रोडक्ट के चुनाव में होगी मदद

Posted By: Sakshi Pandya

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप