जागरण संवाददाता, मोगा। Punjab Politics: पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के जिला प्रभारी बनाए गए कमलजीत सिंह बराड़ को अमृतपाल सिंह का समर्थन करना महंगा पड़ गया है। बराड़ काे पंजाब प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी के हस्ताक्षर से जारी पत्र के माध्यम से पार्टी से तत्काल प्रभाव से निकाल दिया गया है। कमलजीत सिंह बराड़ लगातार अमृतपाल सिंह का समर्थन कर रहे थे।

बराड़ ने पार्टी काे पंथ से बताया था अलग

बराड़ ने अमृतपाल सिंह के स्वयं भू खालिस्तान का भी समर्थन किया था। इस संबंध में पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग व सांसद रवनीत बिट्टू ने एक प्रेस कांफ्रेस के माध्यम से कमलजीत सिंह बराड़ को अमृतपाल सिंह के समर्थन करने के लिए चेतावनी भी दी थी, लेकिन तब बराड़ ने कहा था कि पार्टी अलग है, पंथ अलग है। पार्टी की बार-बार चेतावनी के बावजूद कमलजीत सिंह बराड़ ने सिख नेता अमृतपाल सिंह का समर्थन करना बंद नहीं किया तो उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों का दोषी मानते हुए तत्काल प्रभाव से पार्टी से बाहर कर दिया।

हरीश चौधरी के पत्र में तकनीकी खामी

हालांकि पार्टी प्रभारी हरीश चौधरी की तरफ से जो पत्र जारी किया गया है, उसमें तकनीकी कमी है। कमलजीत सिंह को पार्टी का पूर्व जिला प्रधान बताया गया है, जबकि वे पार्टी के पूर्व जिला प्रधान नहीं है। विधानसभा चुनाव के दौरान जिन जिलों में पार्टी के जिला अध्यक्ष नहीं थे, उनमें तत्कालीन अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने जिला प्रभारी बनाए थे। कमलजीत सिंह बराड़ को भी जिला प्रभारी नियुक्त किया गया था। गाैरतलब है कि अमृतपाल सिंह के खिलाफ लुधियाना के सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने निशाना साधा था।

यह भी पढ़ें-Punjab Weather Update: लुधियाना और बठिंडा में कड़ाके की ठंड, लोगों की छूटी कंपकपी; पढ़िये IMD का ताजा अलर्ट

यह भी पढ़ें-Earphones Side Effects: इयरफोन के अधिक इस्तेमाल से रहें दूर, 15 से 40 साल के युवा हाे रहे बहरेपन का शिकार

-----------

Edited By: Vipin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट