जागरण संवाददाता, लुधियाना। CGST Raid In Ludhiana: सेंट्रल गुड्स एंड सर्विस टैक्स (सीजीएसटी) एंटी एवीजन विंग ने गुरबख्श  सिंह उर्फ हैप्पी नागपाल के बोगस बिलिंग मामले में दो और कारोबारियों को गिरफ्तार किया है। जांच में कई रहस्यों से पर्दा उठ रहा है। कड़ियां एक-दूसरे से जुड़ती जा रही हैं। विभाग के हाथ कई लोगों के खिलाफ सुबूत हाथ लगे हैं। इसी कड़ी के तहत विभाग ने दो बोगस बिलिंग करने वाले कारोबारियों को गिरफ्तार किया है। यह दोनों कारोबारी स्टील और स्क्रैप के बिलिंग के जरिये बोगस बिलिंग कर रहे थे। इनका 13.9 करोड़ रुपये का फर्जी आइटीसी का मामला सामने आया है।

गिरफ्तार किए गए दोनों कारोबारियों ने अपने पिता के साथ मिलकर तीन फर्जी फर्में बनाई थीं। यह लोग बोगस बिलिंग कर हैप्पी नागपाल का साथ दे रहे थे। अब उनके पिता की मौत हो चुकी है। इनके घर में छापामारी के दौरान दस बोगस बिलिंग के दस्तावेज और स्टांप प्राप्त हुए हैं। जांच के दौरान पाया गया कि दोनों ने छह फर्जी फर्में बनाकर 13.9 करोड़ का आइटीसी क्लेम किया है। अदालत ने दोनों को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

यह भी पढ़ें-डाक्टरों ने इलाज से किया मना, महिला की खन्ना सिविल अस्पताल के बाहर हुई डिलीवरी; जानें कारण

अब तक छह लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी

अब तक हैप्पी नागपाल मामले में छह लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। आने वाले दिनों में और जानकारियों सामने आ सकती हैं। विभाग की टीमें कई फर्मो की जांच कर रही हैं। इस केस में अधिकतर नाम स्टील व स्क्रैप से जुड़े लोगों के हैं। मंडी गोबिंदगढ़, साइकिल मार्केट, लोहा मंडी, गिल रोड के कई कारोबारी जो कारोबार के साथ बोगस बिलिंग का धंधा कर रहे हैं। उनके बैंक खातों, कारोबार ट्रांजेक्शन सहित कई पहलुओं पर विभाग साफ्टवेयर के जरिए कड़ी जांच कर रहा है।

यह भी पढ़ें-Electricity Crisis In Punjab: पंजाब में 6 घंटे तक लग रहे बिजली कट, थर्मल प्लांटों में 2 दिन का कोयला बचा