खन्ना, (लुधियाना) सचिन आनंद। कैबिनेट मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली की विधानसभा खन्ना में सेहत सुविधाओं की बदतर हालात की तस्वीर रविवार को देखने को मिली। यहां एक गर्भवती महिला सिविल अस्पताल में डिलीवरी के लिए आई तो डाक्टरों ने उसका इलाज करने से मना कर दिया। इसका कारण महिला के कोविड वैक्सीन नहीं लगे होने को बताया। महिला को परिजन अभी सिविल अस्पताल से बाहर लेकर ही गए थे कि अस्पताल के ठीक बाहर उसकी डिलीवरी हो गई। इस मामले को लेकर शहर वासियों में रोष की लहर है।

महिला मीरा अपने परिवार के साथ मिलिट्री ग्राउंड में झुग्गियों में रहती है। मीरा के पति किशन ने बताया कि मीरा को सुबह प्रसव पीड़ा हुई तो वे उसे सिविल अस्पताल ले आए। यहां डाक्टरों ने सिरे से इलाज करने को मना कर दिया। उन्होंने कहा कि महिला को कोविड वैक्सीन की डोज नहीं लगी है। काफी मिन्नत की पर कोई असर नहीं हुआ। आखिर वह महिला काे किसी और अस्पताल में ले जाने के लिए बाहर निकल आए। अस्पताल के बाहर ही प्रसव पीड़ा तेज हुई और मीरा ने वहीं एक बेटे को जन्म दे दिया। हालांकि, सौभाग्यवश बच्चा और मां पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

समाज सेवकों ने लड्डू बांट किया कटाक्ष

इस बीच खन्ना के समाज सेवक निर्मल सिंह निम्मा, शशिवर्धन और संजीव कुमार मौके पर पहुंच गए। उन्होंने लड्डुओं से डाक्टर व स्टाफ का मुंह मीठा करा कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि लोगों के सड़कों पर उतरने से पहले ही डॉक्टर अपने काम करने के तरीके में सुधार ले आएं तो बेहतर होगा।

यह भी पढ़ें-Power Crisis In Punjab: इंडस्ट्री को लगने लगे बिजली कट के झटके, डीजल के दामों ने छुड़ाए पसीने

मामले की जांच करेंगे : एसएमओ

खन्ना सिविल अस्पताल के एसएमओ डा. सतपाल ने कहा कि मामले की जांच की जाएगी। वे खुद इस बारे में पता कर रहे हैं। जो भी कसूरवार होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें-Power Crisis In Punjab: पंजाब में 6 घंटे तक लग रहे बिजली कट, थर्मल प्लांटों में 2 दिन का कोयला बचा

 

Edited By: Vipin Kumar