चंडीगढ़, [इन्‍द्रप्रीत सिंह]। पंजाब के मुख्‍य महासचिव करण अवतार सिंह को उनके रिटायरमेंट से पहले ही हटा दिया गया है। उनकी जगह वरिष्‍ठ आइएएस अधिकारी विनी महाजन को पंजाब का नया मुख्‍य सचिव बनाया गया है। विनी महाजन पंजाब की पहली महिला मुख्‍य सचिव हैं। वह 1987 बैच की आइएएस अफसर हैं। यह पहला मौका है कि एक साथ दो सीनियर अफसर दंपती राज्य के दोनों प्रमुख पोस्ट पर है। विनी महाजन के पति दिनकर गुप्ता पंजाब के डीजीपी हैं।

विनी महाजन ने दोपहर बाद कार्यभार संभाल लिया। उनको निवर्तमान मुख्‍य सचिव करण अवतार सिंह ने कार्यभार सौंपा। विनी महाजन ने 33 साल के सेवाकाल में कई शानदार उपलब्धियां हासिल कर चुकी है। मुख्‍य सचिव पद उनके शानदार कैरियर में मील के पत्‍थर की तरह है।

विनी महाजन ने मुख्‍य सचिव का कार्यभार संभाला, पति दिनकर गुप्‍ता पंजाब के डीजीपी हैं 

विनी महाजन को शुक्रवार को 1984 बैच के करण अवतार सिंह का स्थान पर मुख्य सचिव बनाया गया। करण अवतार की रिटायरमेंट 31 अगस्त को है लेकिन पहले ही सरकार ने उनको राज्‍य के मुख्‍य सचिव पद से हटा दिया। माना जा रहा है कि उन्हें किसी कॉरपोरेशन या अथॉरिटी का चेयरमैन बनाया जाएगा। फिलहाल उनका तबादला स्पेशल चीफ सेक्रेटरी (गवर्नेंस रिफार्म्स एंड पब्लिक ग्रीवेंसिस) के पद पर किया गया है।

विनी महाजन मुख्य सचिव का कार्यभार ग्रहण करती हुईं। साथ में निवर्तमान चीफ सेक्रेटरी करण अवतार सिंह।  

विनी महाजन के पास कार्मिक और विजिलेंस विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी का कार्यभार भी रहेगा। विनी महाजन इस समय उद्योग विभाग में अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव के पद पर थीं। उद्योग विभाग में अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव के पद के बारे में बाद में आदेश जारी किए जाएंगे।

पंजाब सरकार ने रिटायरमेंट से पहले ही करण अवतार सिंह को पद से हटाया गया, हुआ तबादला  

बता दें कि करण अवतार सिंह का राज्‍य के वित्‍तमंत्री सहित कई मंत्रियों से पिछले दिनों में विवाद हो गया था। कई कैबिनेट मंत्रियों ने उनको मुय सचिव पद से हटाने की मांग की थी। मंत्रियोंं ने करण अवतार सिंह की मौजूदगी वाली किसी भी बैठक में शामिल होने से इन्‍कार कर दिया था। इसके बाद मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने मंत्रियों और करण अवतार सिंह के बीच समझौता करवा दिया था। करण अवतार सिंह के माफी मांगने के बाद मामला खत्‍म हो गया था। अब सरकार ने चुपके से करण अवतार सिंह को मुख्‍य सचिव पद से हटा दिया है।

पंजाब के मुख्‍य सचिव पद के लिए तीन अधिकारी मुख्‍य दावेदार थे। विनी महाजन केे अतिरिक्‍त विश्‍वजीत खन्‍ना और केवीएस सिद्धू दावेदारों में शामिल थे। वरिष्‍ठता क्रम मेंं सिद्धू सबसे ऊपर और विनी महाजन दूसरे नंबर पर थीं। विनी महाजन को राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का समर्थन मिलने की चर्चाएं थीं। दूसरी ओर सिद्धू को कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी का समर्थन होने की बात कही जा रही थीे।

यह भी पढ़ें: टाॅपर पिता की सामर्थ्‍यवान पुत्री हैं पंजाब की पहली महिला मुख्‍य सचिव, हर जगह खास छाप छोड़ी

यह भी पढ़ें: घर में पांच शवों के साथ रात भर सोए रहे चार बच्‍चे, सुबह बच्‍ची ने खोला चाचा का गुनाह

 

यह भी पढ़ें: नहीं भूलते दहशत के वो दिन, हरियाणा में लोगों को पकड़-पकड़कर की गई थीं नसबंदियां

 

यह भी पढ़ें: 'ट्रैक्‍टर वाली' सरपंच: सिर पर चुन्‍नी बांध कर खेतों की करती हैं जुताई, गांव का भी पूरा ध्‍यान

 

 

 पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!