Move to Jagran APP

Kisan Andolan 2024: HC के आदेश के बाद अब क्‍या होगी किसानों की रणनीति? पंढेर बोले- हरियाणा सरकार ने रोका था रास्‍ता...

Kisan Andolan 2024 पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट के आदेश के बाद अब किसानों ने अपनी अगली रणनीति बनाने के लिए बैठक बुलाई है। किसान नेता सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि हाई कोर्ट ने एकदम सही फैसला लिया है। शंभू बॉर्डर का रास्‍ता हमने नहीं बल्कि हरियाणा सरकार ने रोका था। पंढेर ने आगे कहा कि हमने इसलिए धरना दिया था ताकि पुलिस और किसानों के बीच कोई पथराव न हो।

By Inderpreet Singh Edited By: Himani Sharma Thu, 11 Jul 2024 11:56 AM (IST)
हाई कोर्ट के आदेश के बाद किसानों ने बुलाई बैठक (सोशल मीडिया)

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की गारंटी के लिए कानून लाने को लेकर पिछले पांच महीनों से शंभू बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसानों को लेकर आज पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का जो फैसला आया है उसको लेकर किसान संगठनों ने अपनी अगली रणनीति तय करने के लिए 16 जुलाई को एक मीटिंग बुला ली है।

पंढेर बोले- हरियाणा सरकार ने रोका शंभू बॉर्डर का रास्‍ता

हाई कोर्ट के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के प्रधान सरवण सिंह पंढेर ने कहा कि हम तो पहले से ही कई बार कह चुके हैं कि हमने शंभू बैरियर पर रास्ता नहीं रोका, हरियाणा सरकार ने रोका है और हाई कोर्ट ने यही कहा है। यह एक अच्छा फैसला लिया गया है।

पंढेर ने कहा कि पुलिस बल के साथ किसानों का टकराव न हो इसलिए हमने शंभू बैरियर पर धरना दिया हुआ है। इस टकराव में हमारा एक युवा किसान पहले ही मारा गया है।

यह भी पढ़ें: Punjab News: बिल्डर बिना NOC के धड़ल्ले से बना रहे अवैध कॉलोनी, अब HC ने लिया एक्‍शन; पंजाब सरकार को जारी किया नोटिस

हरियाणा की सरकार किसानों को लड़वाने में लगी: अमरजीत सिंह

भाकियू आजाद के प्रधान अमरजीत सिंह ने कहा कि हरियाणा की सरकार किसानों को लड़वाने में लगी हुई है। वह धरनास्थल के आसपास के किसानों को हमारे खिलाफ भड़का रही है कि किसानों ने जो धरना लगाया है उस कारण लोगों को परेशानी हो रही है। आज हमारे स्टैंड पर हाई कोर्ट ने भी मुहर लगा दी है।

यह भी पढ़ें: Punjab News: 'आंगनवाड़ी केंद्रों में हो रही घटिया खाद्य सामग्री की सप्लाई...', बीबी कौर ने AAP सरकार पर लगाए आरोप

शंभू बॉर्डर पर हुए टकराव के बाद हरियाणा पुलिस की ओर से गिरफ्तार किए गए तीन किसानों के विरोध के चलते किसानों ने 17 अप्रैल को रेलवे ट्रैक भी रोक दिया था, जो 21 मई को खोला गया। वह भी केवल इसलिए, क्योंकि व्यापारियों ने भी इस धरने का विरोध करना शुरू कर दिया था और धमकी दी थी कि अगर किसानों ने रेलवे ट्रैक से अपना धरना समाप्त नहीं किया, तो वह भी सारे रास्ते जाम कर देंगे।