चंडीगढ़, जेएनएन। फायर ब्रांड नेता नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा इस्‍तीफा देने के बाद कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने बड़ी बात कह दी है। कैप्‍टन ने कहा है कि यदि सिद्धू कैबिनेट में नहीं रहना चाहते हैं तो कोई कुछ नहीं कर सकता। उनको महत्‍वपूर्ण कार्य (विभाग) दिया गया था और उनको इसे स्‍वीकार करना चाहिए था। कैप्‍टन के रुख से साफ हो गया है कि सिद्धू का इस्‍तीफा मंजूर हो जाएगा। ऐसे में नवजोत सिद्धू के अगले कदम को लेकर सस्‍पेंस गहरा गया है।

कैप्‍टन अमरिंदर बोले- सिद्धू मंत्री नहीं बने रहना चाहते तो कोई कुछ नहीं कर सकता

सिद्धू प्रकरण में पंजाब की राजनीति फिर गर्मा गई है। सिद्धू ने राहुल गांधी के बाद अब पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को भी अपना इस्‍तीफा भेज दिया है। इसके बाद दिल्‍ली गए कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने पूरे मामले पर बड़ी बात कही है। कैप्‍टन ने कहा कि सिद्धू का इस्‍तीफा मिलने के बाद मैं इस संबंध में कदम उठाऊंगा। मैंने कैबिनेट में फेरबदल में उन्‍‍हें (सिद्धू को) बेहद महत्‍वूपर्ण विभाग दिया था, लेकिन अब इस्‍तीफा देने का उनका फैसला है।

नई दिल्‍ली में मीडिया से बातचीत में कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा, नवजोत सिद्धू यदि अपना कार्य (मंत्री बने रहना) नहीं करना चाहते हैं तो ऐसे में मैं कुछ नहीं कर सकता। सिद्धू को धान की खेती के सीजन के बीच कार्य को छोड़ने की बजाए अपना नया ऊर्जा विभाग संभालना चाहिए था। कैप्‍टन ने कहा, कोई सैनिक अपने जनरल द्वारा सौंपे गए दायित्‍व से कैसे मना कर सकता है। आखिर, सरकार चलाने के लिए कुछ अनुशासन होता है।

यह पूछे जाने पर कि क्या सिद्धू ने सुलह का कोई प्रयास किया है, तो सीएम अमरिंदर ने कहा कि  इसकी कोई आवश्यकता नहीं है। उन्‍होंने कहा, 'मुझे उनके साथ कोई समस्या नहीं है और न ही कोई मुद्दा है। यदि सिद्धू को मुझसे कोई मुद्दा या समस्या है, तो आपको उनसे इस बारे में पूछना चाहिए।' कैप्‍टन ने कहा कि सिद्धू के कांग्रेस अध्‍यक्ष को इस्‍तीफा भेजने में कुछ भी गलत नहीं है।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा, मेरा सिद्धू के साथ कोई मुद्दा या मतभेद नहीं है। वास्‍तव में मैंने तो कैबिनेट में फेरबदल में उनको बेहद महत्‍वूपर्ण विभाग का प्रभार दिया था। अब कैबिनेट से इस्‍तीफा देने का उनका (सिद्धू का) निर्णय है। मुझे बताया गया है कि सिद्धू ने मेरे कार्यालय को त्‍यागपत्र भेजा है। मैं इसे देखने के बाद देखूंगा कि इस पर क्या किया जाना है।

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू से मतभेद के बारे में पूछे जाने और सिद्धू की पत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू को लोकसभा चुनाव में टिकट का विरोध करने की बात को गलत बताया। अमरिंदर ने कहा, मैंने कभी भी नवजोत कौर सिद्धू काे टिकट दिए जाने का विरोध नहीं किया। वास्तव में मैं ने ही राहुल जी (राहुल गांधी) से सिफारिश की थी कि डॉ. नवजाेत कौर बठिंडा से चुनाव लड़ें। हकीकत यह है कि सिद्धू ने ही कहा था कि उनकी पत्‍नी बठिंडा से नहीं बल्कि चंडीगढ़ से चुनाव लड़ेंगी। इसलिए यह तय करना मेरे बस में नहीं था, इन बातों को पार्टी तय करती है।

 

अमरिंदर सिंह संसद भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्‍टाचार मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से उनके दूसरे कार्यकाल के दौरान अब तक मुलाकात नहीं की थी, इसलिए शिष्‍टाचार के नाते मिलने आए थे। उन्होंने प्रधानमंत्री से श्री गुरु नानक देव जी की 550 वीं प्रकाशोत्‍सव समारोह पर चर्चा की। प्रधान मंत्री ने इस समारोह में शामिल होने की पुष्टि की। उन्‍होंने कार्यक्रम को भव्य बनाने में हर संभव मदद का आश्वासन भी दिया।

नवजोत सिद्धू का बड़ा सियासी 'गेम', अब कैप्‍टन अमरिंदर पर टिकीं नजरें

बता दें कि सिद्धू ने अपने इस्‍तीफे का खुलासा कर कांग्रेस के साथ-साथ पूरे राज्‍य की राजनीति में हलचल मचा दी है। सिद्धू के अपने इस्‍तीफे का खुलासा 34 दिन दिन बाद करने और इस्‍तीफा मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को न देकर राहुल गांधी को भेजने पर सवाल उठे। इसके बाद सोमवार को उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री को भी इस्‍तीफा भेज दिया। इसके बाद अब सारी निगाहें सीएम कैप्‍टन अमरिंदर पर लग गई है।

सिद्धू ने रविवार को अपने इस्‍तीफे का खुलासा किया था। उन्‍होंने ट्वीट कर बताया था कि वह 10 जून को ही राहुल गांधी को अपना इस्‍तीफा दे चुके थे। इसके बाद मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमदिंर सिंह को इस्‍तीफा नहीं भेजने पर सवाल उठा तो सोमवार सुबह सिद्धू ने उनके कार्यालय को भी इस्‍तीफा भेज दिया। सिद्धू ने ट्वीट कर जानकारी दी कि उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री को भी अपना इस्‍तीफा भेजने दिया है। ट्वीट में सिद्धू ने लिखा है, आज मैंने अपना इस्‍तीफा पंजाब के मुख्‍यमंत्री को उनके सरकारी आवास पर भेज दिया।

दूसरी ओर, पूरे सिद्धू के इस्‍तीफे को लेकर सियासी गलियारे में चर्चाएं गर्म है। पूरे प्रकरण को सिद्धू का हाईप्रोफाइल 'गेम' माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि सिद्धू ने इसके माध्‍यम से कांग्रेस को दुविधा में डालने के साथ ही दबाव की राजनीति भी कर रहे हैं। सबकी नजर कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के कदम और सिद्धू के अगले दांव पर लग गई है।

 

सिद्धू ने 40 दिन बाद भी नहीं संभाला था नया विभाग, पहले सीएम को इस्‍तीफा नहीं भेजने पर उठे सवाल  

बता दें कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा विभाग में बदलाव किए जाने से नाराज नवजोत सिंह सिद्धू ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा का ऐलान रविवार को किया था। उन्‍होंने अपना इस्तीफा 10 जून को राहुल गांधी को सौंपा था, लेकिन इसका खुलासा 14 जुलाई को किया। इस्तीफा भी राहुल को संबोधित करते हुए लिखा गया जो सरकारी स्तर पर कोई मायने नहीं रखता है। हालांकि बाद में सिद्धू ने पुन: ट्वीट कर कहा कि वह अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को भी भेज देंगे।

अब नजरें कैप्‍टन अमरिंदर के कदम पर, चर्चां इस्‍तीफा हो सकता है नामंंजूूर भी

बता दें 6 जून को मुख्यमंत्री द्वारा 13 मंत्रियों के विभाग बदले गए थे। सिद्धू से स्थानीय निकाय विभाग लेकर बिजली महकमा दे दिया गया था जिससे वह नाराज थे और नए विभाग का कार्यभार नहीं संभाला था । उन्होंने 9 जून को पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। इस दौरान पार्टी की महासचिव प्रियंका भी मौजूद थीं। राहुल ने कैप्टन व सिद्धू के बीच विवाद को खत्म करने के लिए वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को जिम्मेदारी सौंपी थी।

सिद्धू ने अब खुलासा किया है कि उन्होंने राहुल को उसी दिन अपना इस्तीफा सौंप दिया था। इस्तीफे में उन्होंने महज दो लाइनों में लिखा है कि वह पंजाब सरकार के मंत्री पद से इस्तीफा देते हैैं। इसके बाद से ही उन्होंने चुप्पी साध ली थी। न तो अपने विभाग की जिम्मेदारी संभाली और न ही पंजाब में पार्टी के किसी नेता और मंत्री के संपर्क में रहे।

इस बीच मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पंजाब के तीन कैबिनेट मंत्री जरूर अहमद पटेल से मिले। लेकिन राहुल गांधी द्वारा अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद से ही पार्टी हाईकमान में लगातार खींचतान चल रही है। ऐसे में हाईकमान की तरफ से कोई भी सकारात्मक संकेत न मिलता देख सिद्धू ने अपना इस्तीफा ट्विटर एकाउंट पर पोस्ट कर सार्वजनिक कर दिया।

शुरू से ही रहे विवादों में

अगस्त 2018 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा करतारपुर कॉरिडोर के नींव पत्थर रखने के समारोह में सिद्धू गए थे। तभी से उनके व कैप्टन के बीच दरार पडऩे लगी थी। कैप्टन नहीं चाहते थे कि सिद्धू उस समारोह में जाएं। उन्होंने सिद्धू को फोन करके मना भी किया, लेकिन सिद्धू नहीं माने। सिद्धू न सिर्फ पाकिस्तान गए बल्कि समारोह में वहां के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से गले भी मिले। जिसे लेकर खासा बवाल मचा। कैप्टन ने भी इसका विरोध किया।

कहा था- कैप्टन अमरिंदर मेरे कैप्टन नहीं

पांच राज्यों के चुनाव प्रचार पर गए सिद्धू ने एक प्रेस वार्ता में कहा था कि कैप्टन अमरिंदर पंजाब के कैप्टन हो सकते हैं, मेरे नहीं। मेरे कैप्टन राहुल गांधी हैं। सार्वजनिक तौर पर सिद्धू द्वारा ऐसा कहने पर वह निशाने पर आ गए थे। विवाद बढ़ने पर उन्‍होंने कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से माफी मांगी थी और उनको पिता तुल्‍य बताया था।

यह भी पढ़ें: इस्‍तीफा देकर चौतरफा हमले से घिरे नवजाेत, जानें किस बड़े मंत्री ने कहा- सिद्धू नहीं बुद्धू

लोकसभा चुनाव के दौरान पहले तो वह पंजाब में कांग्रेस के चुनाव प्रचार से दूर रहे और जब चुनाव प्रचार के अंतिम दिन इससे जुड़े तो जनसभा में सीधे कैप्‍टन अमरिंदर पर हमला कर दिया। उन्‍होंन कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की बादलों (प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर बादल) से मिलीभगत का आरोप लगा दिया। इसके बाद कैप्‍टन ने भी सिद्धू पर पलटवार किया।

-------

 ...तो सिद्धू हो जाते बिना विभाग के मंत्री

सिद्धू के इस्तीफा देने की बात तब सामने आई है जब कांग्र्रेस सरकार इस बात पर विचार कर रही थी कि सिद्धू से विभाग वापस ले लिया जाए। 6 जून को उनका विभाग बदला गया था, लेकिन सवा माह बाद भी उन्होंने चार्ज नहीं संभाला था। इससे सरकार पर भी दबाव बनने लगा था क्योंकि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को बिजली महकमा देखना पड़ रहा था।

यह भी पढ़ें: अद्भुत है यह प्रेम कहानी, जानें कैसे डेनमार्क की बाला बन गई पंजाबी युवक की 'हीरो'

यह पहला ऐसा मौका था कि किसी मंत्री ने इतने दिनों तक अपने विभाग की जिम्मेदारी नहीं संभाली। इस वजह से कांग्रेस सरकार की खासी किरकिरी हो रही थी। सिद्धू के कार्यभार न संभालने से कांग्रेस समेत सरकार की फैसला लेने की क्षमता पर भी सवाल उठ रहे थे। यही वजह है कि कांग्रेस सरकार इस बात पर विचार कर रही थी कि क्यों न सिद्धू से बिजली विभाग वापस ले लिया जाए। ऐसी सूरत में सिद्धू कैबिनेट मंत्री तो रहते, लेकिन बिना किसी विभाग के। इसी दौरान सिद्धू के इस्तीफे की बात सामने आ गई।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

Posted By: Sunil Kumar Jha