जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस ने कनाडा के रक्षामंत्री हरजीत सिंह सज्जन के पक्ष में खड़े हो रहे लोगों की पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा है कि सज्जन के इंडो-कनेडियन खालिस्तानियों के समर्थक होने संबंधी कई पुख्ता व विस्तृत दस्तावेजी सूबूत हैं। प्रदेश कांग्रेस नेताओं व सांसदों रवनीत बिट्टू व गुरजीत औजला ने यहां जारी साझे बयान में कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की आलोचना करने वाले उन भारत विरोधी ताकतों के हाथों में खेल रहे हैं, जो देश का धर्मनिरपेक्ष ढांचा बर्बाद करना चाहती हैं।

दोनों सांसदों ने सभी राजनीतिक दलों व धार्मिक संगठनों से ऐसे गंभीर मुद्दों पर ओछी राजनीति से बचने की अपील की है, जिसका पंजाब व इसके लोगों के भविष्य पर दुष्प्रभाव पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि सज्जन के खालिस्तानी समर्थक होने की पुष्टि उनकी अपनी लिबरल पार्टी के कई नेताओं ने की थी अौर उन्हें चुनाव में लिबरल पार्टी का उम्मीदवार बनाए जाने के खिलाफ रोष जताते हुए पार्टी छोड़कर कर की थी।

यह भी पढ़ें: मंत्री नहीं कनाडा के रक्षा मंत्री सज्जन का स्वागत करेंगे डीसी व एसएसपी

बिट्टू व औजला ने कहा कि सज्जन का खालिस्तानी रुख भारत सरकार को पसंद नहीं आया था जब लिबरल उम्मीदवार ने 2011 में सरे टैंपल रिमेंबरेंस डे के अवसर पर अपने साथियों को मारे गए खालिस्तानी समर्थकों के पोस्टरों के नजदीक फोटो न खींचने देने के आदेश दिए थे। यहां तक कि इस मौके पर ओटावा को भारत से माफी मांगने को मजबूर होना पड़ा था।

यह भी पढ़ें: 2000 करोड़ यादगार पर खर्च, पीयू को नहीं दी 20 करोड़ की ग्रांट

कांग्रेस सांसदों ने कहा कि इन सबूतों व अन्य दस्तावेजी तथ्यों को नजरअंदाज करते हुए देश के कुछ राजनीतिक व धार्मिक संगठन सज्जन व उनके जैसे अन्य खालिस्तान समर्थकों को समर्थन दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे लंबे दौर में भारत व खासकर पंजाब के हितों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचेगा। ऐसे लोगों को मुद्दे की गंभीरता की चिंता नहीं है। ये लोग उन कठोर सच्चाइयों को नजरअंदाज कर रहे हैं जिन पर खुद कनाडा ने गंभीर नोटिस लिया था।
 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!