नई दिल्ली, जेएनएन। बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मणिपुर में छात्राओं से संवाद किया। छात्रों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष ने शिक्षा व्यवस्था से जुड़े कई अहम सवालों के जवाब दिए। इस दौरान राहुल ने मौजूदा सरकार पर शिक्षा व्यवस्था को खराब करने के सीधे आरोप लगाए।

मणिपुर इंस्टीयूट ऑफ टेक्नोलॉजी में 'डॉयलॉग फॉर डेमोक्रेसी' विषय पर चर्चा का आयोजन किया गया था। महंगी शिक्षा के सवाल पर राहुल ने कहा कि सरकार को इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि युवाओं को कम पैसे में शिक्षा दी जाए।

राहुल गांधी ने एक बार फिर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उनकी डिग्री पर सवाल उठाए। राहुल ने कहा कोई भी नहीं जानता कि प्रधानमंत्री कभी विश्वविद्यालय गए थे या नहीं। कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे कहा कि पीएम मोदी की डिग्री बारे में दिल्ली में एक आरटीआई के जरिये सवाल पूछा गया था, लेकिन इसका कोई जवाब नहीं दिया गया। 

रोजगार का प्रमुख मुद्दा उठाते हुए छात्रों से राहुल ने कहा पीएम मोदी जी देश को नुकसान पहुंचा रहे हैं। पिछले पांच सालों में 4 करोड़ 70 लाख नौकरियां खत्म हो गई हैं। जबकि पीएम मोदी ने देश के युवाओं से हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था।

राज्य की राजनीतिक हालातों पर छात्रों से बात करते हुए गांधी ने कहा जब हम (कांग्रेस) मणिपुर में सत्ता में आए थे, कांग्रेस ने AFSPA के असर को कम किया था। हमने सात निर्वाचन क्षेत्रों से AFSPA को हटा दिया था। राज्य को आगे बढ़ाने के लिए AFSPA जैसी कठोर शक्तियों को हटाना हमारा प्रमुख उद्देश्य है।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी छात्रों से सीधे संवाद कर रहे हैं। इसके पहले राहुल गांधी तमिलनाडु के चेन्नई में स्टेला मैरिस कॉलेज फॉर वुमेन की छात्राओं के साथ सीधा संवाद किया था। तो वहीं अब राहुल पूर्वोत्तर भारत के मणिपुर में छात्रों से संवाद करते हुए, मौजूदा सरकार पर कई सवाल दागे हैं। 

मणिपुर दौरे में पहुंचे राहुल गांधी ने राजधानी इंफाल में जनसभा को भी संबोधित किया। राहुल ने कहा, 'मैं यहां आपके लिए प्रतिबद्ध हूं कि कांग्रेस आपकी संस्कृति और इतिहास का बचाव करेगी। हम नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित करने की अनुमति नहीं देने जा रहे हैं।'
 

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस