मुंबई, एएनआइ। राष्ट्रवादी कांग्रेस कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (NRC) तथा नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में प्रदर्शन को समर्थन दिया है। गौरतलब है कि पूरे देश में एनआरसी और सीएए के खिलाफ धरना प्रदर्शन हो रहा है। जिसमें युवा वर्ग के साथ-साथ कई राजनीतिक पार्टियां भी शामिल हैं।

 बता दें कि पश्चिमी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्यभर में एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं। एनआरसी के मुद्दे पर विरोध जताते हुए ममता बनर्जी ने यहां तक कहा है कि जब तक मैं जिंदा रहूंगी इसके खिलाफ प्रदर्शन करूंगी और किसी भी कीमत पर एनआरसी को लागू नहीं होने दूंगी। 

सिर्फ पश्चिमी बंगाल में ही नहीं बल्कि देश के हर राज्य से इसके विरोध की खबरें लगातार आती रही हैं। प्रदर्शन के दौरान कई लोगों की मौत तक हो चुकी है, पुलिस और जनता के बीच जोरदार झड़प तक हुई हैं। कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी भी एनआर सी और सीएए को लेकर संवेदनशील हैं और इस मामले पर सरकार, पुलिस व प्रशासन को कटघरे में खड़े करने की कोशिश कर रही हैं साथ ही सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहरा रही है। 

वहीं, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी एनआरसी और सीएए का विरोध जारी रखने को कहा है, बसपा प्रमुख मायावती भी इस कानून का विरोध कर रही हैं। देश के दक्षिणी भाग में भी इस कानून को लेकर लोगों में आक्रोश है। केरल और कर्नाटक में भी सीएए और एनआरसी का तगड़ा विरोध किया गया है। 

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने विधानसभा में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ एक प्रस्ताव भी पेश किया था। देश की गैर भाजपा सरकारों ने घोषणा की है कि वो इसे लागू नहीं होने देंगे। लेकिन केरल इस कानून के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पेश करने वाला राज्य बन चुका है।

Year ender 2019: सुर्खियों में रही बंगाल की राजनीतिक उथल-पुथल

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस