नई दिल्ली, एएनआइ। लोकसभा चुनाव 2019 से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा केंद्र की मोदी सरकार पर दिए गए बयान को रक्षा मंत्री ने साजिश करार दिया है। उन्होंने कहा की ऐसे बयान चुनाव के आसपास ही आ रहे हैं। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का मानना है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा दिया गया बयान कांग्रेस की मोदी सरकार को सत्ता से हटाने की साजिश हो सकती है। बता दें कि इमरान खान ने कहा था कि अगर भाजपा की सरकरा सत्ता में दोबारा आती है, तो भारत-पाक शांति वार्ता और कश्मीर मुद्दे का निपटारा करने का एक बेहतर मौका हो सकता है।

'कांग्रेस के बड़े नेता मदद मांगने के लिए पाकिस्तान गए'
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि मुझे नहीं पता कि इस तरह के बयान क्यों दिए जा रहे हैं। हर बार इस तरह के बयान दिए जाते हैं जो व्यक्तिगत रूप से मेरी मेरी पार्टी या सरकार के विचार नहीं होते। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार को हटाने के लिए कांग्रेस के कई बड़े नेता मदद मांगने के लिए पाकिस्तान गए। मुझे आश्चर्य है कि क्या यह तब की योजना का हिस्सा है जो कांग्रेस द्वारा बनाई गई हैं।

ये भी पढ़ें- बिहार में दिए विवादित बयान के बाद पाकिस्तान के नए हीरो बन गए नवजोत सिंह सिद्धू

'मुझे नहीं पता उन्हें ये तारीखें कहां से मिली'
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के उस दावे जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत 16-20 अप्रैल के बीच पाकिस्तान पर हमला करने वाला था पर प्रतिक्रिया देते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि मुझे नहीं पता कि उन्हें ये तारीखें कहां से मिली। भगवान ही जानता है कि भारत में उनके सोर्स कौन हैं।

'हमले का पाकिस्तान ने ही दावा किया'
अंतरराष्ट्रीय मीडिया द्वारा बालाकोट एयर स्ट्राइक पर उठाए गए सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि किसी भी देश ने भारत सरकार से कोई भी सवाल नहीं किया। बालाकोट हमले के बारे में सबसे पहले पाकिस्तान ने ही दावा किया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमले के 40 दिन बाद कुछ चुनिंदा पत्रकारों को बालाकोट ले गया और बताया कि हमारे हमारे ऊपर कोई हमला नहीं हुआ।

'हमने सेना को जरूरी सामान खरीदने की मंजूरी दी'
सेना को हथियार खरीदने के लिए 300 करोड़ रुपये की मंजूरी पर रक्षा मंत्री ने कहा कि उरी हमले के बाद भी हमने सुरक्षाबलों को जरूरी सामान खरीदने की मंजूरी दी थी। पुलवामा हमले के बाद हमने उन्हे पूरा अधिकार दिया की वो जो खरीदना चाहते हैं खरीद सकते हैं। उन्होंने कहा कि ये सब मोदी और एनडीए सरकार में ही हो सकता है।

'बोलने से पहले दिमाग का इस्तेमाल करें नेता'
लोकसभा चुनाव 2019 में बयानबाजी के लगातार गिरते स्तर को लेकर रक्षा मंत्री ने कड़ी नाराजगी जताई है। हाल ही में भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी और अभिनेत्री जया प्रदा पर समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान द्वारा  अभद्र टिप्पणी की गई। उसपर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जोर देकर कहा कि नेताओं को महिलाओं से संबंधित मुद्दों पर बोलने से पहले अपने दिमाग का इस्तेमाल करना चाहिए।

ये भी पढ़ें- Loksabha Election 2019 : मोदी का प्रचार करने अमेरिका से आईं मंजरी ने कहा, एयर स्ट्राइक ने बदली भारत की छवि

'महिला पर टिप्पणी करना सबसे आसान'
एएनआइ को दिए एक इंटरव्यू में रक्षा मंत्री ने कहा कि किसी महिला पर टिप्पणी करना सबसे आसान होता है, जब आप अन्य चीजों के बारे में बात करते हैं जो बातचीत का हिस्सा नहीं होती। उन्होंने कहा कि आप आसानी से उनके उपर व्यक्तिगत टिप्पणी कर सकते हो।

'हमें एक रेखा खींचनी है'
रक्षा मंत्री ने कहा कि राजनेताओं को एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए। हमें एक रेखा खींचनी है। पार्टी लाइन के बावजूद मुझे लगता है कि हम सभी को एक दूसरे पर सार्वजनिक टिप्पणी करने से बचना चाहिए।उन्होंने कहा कि यह हमे पता होना चाहिए कि हम राजनीति के बारे में क्या बात करते हैं क्योंकि यह वह विरासत है जिसे हमे आने वाली पीढ़ी के लिए आगे छोड़ना है।

'आजम खान ने की थी अभद्र टिप्पणी'
रविवार को रामपुर के शाहबाद में एक रैली के दौरान आजम खान ने जया प्रदा का नाम लिए बिना बेहद शर्मनाक बयान दिया था। आजम ने कहा था, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे। मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनका नेकर खाकी रंग का है। उनके इस बयान पर महिला आयोग ने तुरंत ऐक्शन लेते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी। आजम के बयान के बाद चुनाव आयोग ने उनके प्रचार पर 72 घंटों की रोक लगाने का आदेश दिया है। अब आजम तीन दिन तक कोई चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगे।

चुनाव की विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By: Manish Pandey