बेंगलुरु, एजेंसी। भारत के मार्स आर्बिटर यान (India's Mars orbiter craft) ने अपनी कक्षा में आठ साल पूरे कर लिए हैं, जो इसके छह महीने के डिजाइन किए गए मिशन लाइफ से काफी आगे है। हालांकि, लाल ग्रह (Red Planet) पर 'मंगलयान' मिशन (Mangalyaan Mission) पर अनुवर्ती योजना को अभी तक पक्का नहीं किया गया है।

5 नवंबर 2013 को लान्च किया गया मंगलयान

मार्स आर्बिटर मिशन (MOM), एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शन उद्यम, राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का पहला इंटरप्लेनेटरी मिशन है। मंगलयान को 5 नवंबर, 2013 को लान्च किया गया था। इसे 24 सितंबर, 2014 को पहले प्रयास में सफलतापूर्वक मंगल ग्रह की कक्षा में स्थापित किया गया था।

इसरो मुख्यालय पर बैठक

नवीनतम मील के पत्थर को चिह्नित करने के लिए, इसरो ने मंगलवार को यहां अपने मुख्यालय में 'भारत के मार्स ऑर्बिटर मिशन (एमओएम) के आठ साल पर राष्ट्रीय बैठक' का आयोजन किया है, जिसका उद्घाटन इसके अध्यक्ष एस सोमनाथ ने किया है।

बैठक में ये लोग देंगे भाषण

अंतरिक्ष आयोग के सदस्य के राधाकृष्णन और ए एस किरण कुमार बैठक में विशेष भाषण देंगे, जो 'मार्स आर्बिटर मिशन अवलोकन', 'वैज्ञानिक उपलब्धियां' और 'आंतरिक सौर प्रणाली की खोज में भविष्य की दिशा' विषयों पर केंद्रित होंगे। इसरो के तत्कालीन अध्यक्ष के रूप में, राधाकृष्णन ने MOM (मंगलयान) मिशन टीम का नेतृत्व किया था।

इसरो की प्राथमिकता में हैं ये प्रोजेक्ट्स

इसरो 2016 में भविष्य के मार्स ऑर्बिटर मिशन (MOM-2) के लिए 'अवसर की घोषणा' (AO) लेकर आया था, लेकिन अधिकारियों ने स्वीकार किया कि आने वाले 'गगनयान', 'चंद्रयान -3' और ' आदित्य-एल 1' प्रोजेक्ट्स अंतरिक्ष एजेंसी की मौजूदा प्राथमिकता सूची में हैं।

वैज्ञानिकों से मांगे गए प्रस्ताव

एओ में कहा गया था: 'भविष्य में लन्च के अवसर के लिए अब मंगल के चारों ओर अगला आर्बिटर मिशन रखने की योजना है। प्रासंगिक वैज्ञानिक समस्याओं और विषयों को हल करने के लिए मंगल ग्रह (MOM -2) के आसपास एक आर्बिटर मिशन पर प्रयोगों के लिए भारत के इच्छुक वैज्ञानिकों से प्रस्ताव मांगे गए हैं।' एमओएम-2 पर अपडेट के बारे में पूछे जाने पर इसरो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा, 'यह अभी तक स्वीकृत सूची में नहीं है।'

अंतरराष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता

अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, 'हमें अनुसंधान समुदाय के साथ व्यापक परामर्श के आधार पर परियोजना प्रस्ताव और पेलोड तैयार करने की जरूरत है। यह अभी भी ड्राइंग बोर्ड पर है, लेकिन मिशन को अंतिम रूप देने के लिए कुछ और विवरण और अंतरराष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता है।'

एमओएम के कार्यक्रम निदेशक एम अन्नादुरई ने मंगलवार को कक्षा में आठ साल पूरे करने वाले मंगलयान के बारे में कहा, 'यह काफी संतोषजनक और संतोषजनक क्षण है।'

ये भी पढ़ें: सात साल बाद भी सक्रिय है छह माह के मिशन पर गया मंगलयान, जानें और कितने वर्षों तक करता रहेगा काम

ये भी पढ़ें: China Mars Mission: चीन मंगल ग्रह पर मानव विमान भेजने की कर रहा तैयारी

Edited By: Achyut Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट