राजेंद्र बी अक्लेकर, मिड डे। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मुंबई के बीकेसी मैदान में शिवसेना के अपने गुट की रैली को संबोधित किया। इस दौरान मुंबई की लाइफलाइन कहे जाने वाली वेस्टर्न रेलवे लोकल ट्रेनों में बुधवार को ट्रेन के अंदर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की राजनीतिक रैली का लाइव प्रसारण किया गया, जिससे विवाद खड़ा हो गया है। इस विवाद पर विपक्षी नेताओं ने कहा कि यह प्रचार के लिए एक राष्ट्रीय संपत्ति का अधिग्रहण है। रेलवे अधिकारियों ने कहा कि रैली का प्रसारण ट्रेन के अंदर हुआ। हालांकि इसको तुरंत रोक दिया गया।

वेस्टर्न रेलवे ने दिया सफाई

वेस्टर्न रेलवे के प्रवक्ता ने इस मामले पर कहा कि कुछ सोशल मीडिया चैनलों के माध्यम से यह बात सामने आई है कि कुछ राजनीतिक दलों की एक रैली का लोकल ट्रेनों में सीधा प्रसारण किया गया था। हालांकि स्पष्ट किया जाता है कि पश्चिम रेलवे ने ऐसी कोई अनुमति नहीं दी है। उन्होंने आगे कहा कि अनुबंध समझौते में साफ तौर पर लिखा है कि राजनीति प्रकृति के किसी भी विज्ञापन या सामग्री के प्रदर्शन को स्पष्ट रूप से प्रतिबंधित किया गया है।

10 से 15 मिनट तक चला प्रसारण

पश्चिम रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में लाइसेंसी ठेकेदार से स्पष्टीकरण मांगा गया है। प्रथम दृष्टया यह सूचित किया जाता है कि 10 से 15 मिनट के लिए लोकल ट्रेनों के अंदर एलईडी पैनल पर लाइव राजनीतिक रैली प्रदर्शित की गई थी। हालांकि जब इसका पता चला तो लाइव प्रसारण को तुरंत बंद कर दिया गया।

यह भी पढ़ें- एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे पर जमकर साधा निशाना, कहा- कटप्पा का भी ईमान था, आप तो *** राजनीति करते हैं

यह भी पढ़ें- एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे ने दशहरा रैली के बहाने किया शक्ति प्रदर्शन, कसे तंज

यह भी पढ़ें- उद्धव ठाकरे के तीखे वार तो एकनाथ शिंदे का पलटवार, दोनों रैलियों की मुख्य बातें

Edited By: Sonu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट