चेन्नई। भारत की मंगल अभियान टीम ने अमेरिकी नेशनल स्पेस सोसायटी (एनएसएस) से 2015 का स्पेस पायनियर अवार्ड जीता है। यह पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी श्रेणी में देने की घोषणा की गई है।

एक बयान में सोमवार को एनएसएस ने बताया कि इस बार का विज्ञान और प्रौद्योगिकी श्रेणी में स्पेस पायनियर अवार्ड भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने जीता है। यह पुरस्कार एनएसएस के अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष विकास सम्मेलन के दौरान प्रदान किया जाएगा। यह सम्मेलन 20-24 मई तक टोरंटो में आयोजित किया जाएगा।

एनएसएस के अनुसार, पांच नवंबर, 2013 को प्रक्षेपित भारत का मंगलयान 24 सितंबर, 2014 को मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश कर गया। इस अभियान ने दो महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल कीं। एक तो पहले प्रयास में भारतीय अंतरिक्षयान मंगल की कक्षा में पहुंचा, जिसे अभी तक कभी कोई दूसरा देश नहीं कर पाया है।

दूसरा, मंगलयान अंडाकार कक्षा में है। इस पर लगा उच्च क्षमता वाला कैमरा मंगल की पूरी गोलाई में रंगीन तस्वीरें ले रहा है। इस तरह की तस्वीरें पहले बेहद कम ली जा सकी थीं।

पढ़ेंः 'मंगल अभियानों के लिए बेहतर साबित होंगी महिलाएं'

पढ़ेंः नेचर के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिकों में इसरो प्रमुख राधाकृष्णन भी

Posted By: manoj yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस