राज्य ब्यूरो, जम्मू। भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा पर उड़ी के टंगडार सेक्टर में अपने दो सैनिकों की शहादत और एक नागरिक की मौत का बदला चंद घंटों में लेते हुए पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाया है। भारत ने बड़ी जवाबी कार्रवाई करते हुए गुलाम कश्मीर की नीलम और लीपा घाटी में आतंकियों के चार लांचिंग पैड को पूरी तरफ तबाह कर दिया। इस कार्रवाई में करीब 10 पाकिस्तानी सैनिकों और हिजबुल और जैश के 35 आतंकियों के मारे जाने की सूचना है। वहीं, पाक सेना की दो बटालियन पंजाब रेजिमेंट और मुजाहिद रेजिमेंट को भारी नुकसान पहुंचा है। भारत ने इस कार्रवाई में अपनी आर्टिलरी और मल्टी बैरल राकेट लांचर पिनाका के साथ बोफोर्स तोप का भी इस्तेमाल किया। देर शाम तक दोनों तरफ से रुक-रुककर गोलाबारी जारी थी।

शनिवार रात हुई थी घुसपैठ की कोशिश

पाकिस्तानी सेना शनिवार रात से ही टंगडार में गोलाबारी कर भारत में आतंकवादियों को घुसपैठ कराने की कोशिश कर रही थी, जिसे सेना ने नाकाम बना दिया था। इस दौरान एक मोर्टार सैन्य चौकी के पास फटने से दो सैनिक घायल हो गए। बाद में वे शहीद हो गए। शहीद जवानों की पहचान हवालदार पदम बहादुर श्रेष्ठ और राइफलमैन गामिल कुमार श्रेष्ठा के रूप में हुई है। इस गोलाबारी में एक नागरिक मोहम्मद सादिक की भी मौत हुई थी। जबकि तीन नागरिक मोहम्मद मकबूल, मोहम्मद शफी और युसुफ हमीद घायल हुए हैं। इसके अलावा टंगडार के गुंडीशाह में पाक गोलाबारी में पांच मकानों के तबाह होने के साथ करीब 50 मवेशी भी मारे गए हैं। इसकी पुष्टि सेना की उत्तरी कमान के पीआरओ डिफेंस कर्नल राजेश कालिया ने भी की है।

पाक सेना का तेल और एम्युनिशन डिपो भी तबाह

पाकिस्तान की हरकत के बाद भारतीय सेना ने भी कड़ा जवाब दिया। सेना ने रविवार को सटीक प्रहार कर एथमुकाम में पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय को नुकसान पहुंचाने के साथ जूरा और कुंडल साही में पाकिस्तान के लांचिंग पैड तबाह कर दिए। इन लांचिंग पैड पर मौजूद कई आतंकी मारे गए। सूत्रों के अनुसार, भारत की इस कार्रवाई में करीब 10 पाकिस्तानी सैनिकों और 35 आतंकियों के मारे जाने की सूचना है। इसके अलावा कई सैनिक और आतंकी घायल भी हुए हैं। पाकिस्तानी सेना के छह वाहन और तीन इमारती ढांचे भी तबाह हुए हैं। बताया जा रहा है कि तबाह ढांचों में पाक सेना का तेल और एम्युनिशन डिपो भी था।

जम्मू-कश्मीर में सीमा पर हाई अलर्ट

इस कार्रवाई के बाद जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा और अंतराष्ट्रीय सीमा पर हाई अलर्ट है। सेना, सीमा सुरक्षाबल किसी भी प्रकार का जवाब देने के लिए तैयार हैं। वहीं, पाकिस्तानी गोलाबारी से बचने के लिए बारामुला और कुपवाड़ा में एलओसी के साथ सटे इलाकों में रहने वाले कई ग्रामीणों ने सुरक्षित स्थानों पर शरण ले ली है।

सात दिन में भारतीय सेना की दूसरी बड़ी कार्रवाई

भारतीय सेना ने सात दिन के भीतर नीलम घाटी में यह दूसरी बड़ी कार्रवाई की है। सेना ने पिछले शनिवार भी रात को बारामुला के उड़ी में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की गोलाबारी के बाद रविवार को मुंहतोड़ जवाब दिया था, जिसमें पाकिस्तान की तीन चौकियां उड़ाने के साथ नीलम घाटी के हाजीपीर में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी कैंप को तबाह कर दिया था। यह कार्रवाई भी भारतीय जवान संतोष गोप की शहादत के बाद की गई थी। इस कार्रवाई में भी कई पाकिस्तानी सैनिक और आतंकी मारे गए थे।

यह भी पढ़ें : भारतीय फौज की कार्रवाई से बौखलाया पाक, फिर बोला झूठ, कहा- हमने मारे नौ सैनिक

यह भी पढ़ें: पाक की कायराना हरकत, सीमा पार फायरिंग में दो जवान शहीद, नागरिक की मौत, तीन घायल

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप