बेंगलुरु, एएनआइ। कर्नाटक के कई तटीय इलाकों, मलनाड और अंदरूनी क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है। राज्य के राजस्व मंत्री आर अशोक ने बताया कि इस बारिश के कारण राज्य में अब तक नौ लोगों की मौत हो चुकी है जबकि तीन लापता हैं।

बता दें कि राज्य में मूसलाधार बारिश और भूस्खलन की खबरें हैं। यहां लोगों को निचले स्थानों में सुरक्षित स्थानों तक स्थानांतरित कर दिया गया है जबकि कई लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं।

कर्नाटक के राजस्व मंत्री आर अशोक ने रविवार को कहा कि उत्तरी कर्नाटक क्षेत्र में पिछले दो सप्ताह से भारी बारिश के कारण हजारों लोग विस्थापित हुए हैं। इस क्षेत्र में अब तक कम से कम 31,360 लोगों को निचले इलाकों से निकाला गया है। अशोक कर्नाटक राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (केएसडीएमए) के उपाध्यक्ष भी हैं, उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि इस क्षेत्र में स्थापित 237 राहत शिविरों में 22,417 से अधिक लोगों का पुनर्वास किया गया है। केएसडीएमए द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, 45 तालुकों में 283 गांव बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं, जिससे 36,498 से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 72 घंटों में बारिश से संबंधित घटनाओं में कम से कम नौ लोगों की मौत हो गई है और तीन अन्य बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लापता हैं।

केएसडीएमए के आंकड़ों में कहा गया है कि 3,502 से अधिक बिजली के खंभे उखड़ गए हैं और 342 ट्रांसफार्मर क्षतिग्रस्त हो गए हैं, जिससे कई गांवों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गई है। मंत्री ने कहा कि लगभग 59,000 हेक्टेयर में कृषि फसलें और लगभग 2,000 हेक्टेयर बागवानी फसलें पानी की अधिक रिहाई और उत्तरी कर्नाटक क्षेत्र में भारी बारिश के कारण जलमग्न हो गईं।

यह भी पढ़ें : केरल में भारी बारिश की चेतावनी, सुरक्षित स्थानों पर स्थानानंतरित किए जा रहे लोग

यह भी पढ़ें : रिपोर्ट में दावा, पाकिस्तान में सरकार के बाद अब न्यायपालिका को कब्जे में लेना चाहती है सेना

Edited By: Neel Rajput