इडुक्की, एएनआइ। देश के विभिन्न इलाकों में इन दिनों काफी बारिश हो रही है। दक्षिण भारत के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। केरल में भारी बारिश के बीच डिजास्टर वार्निंग सिस्टम से चेतावनी मिलने के बाद मुन्नार के एंथोनियार कॉलोनी से लगभग 30 परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

केरल के विभिन्न हिस्सों में सोमवार को भारी बारिश की भविष्यवाणी की गई है। इस बीच मुन्नार में अब तक सबसे ज्यादा बारिश दर्ज की गई है, जिसे देखते हुए परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानानंतरित कर दिया गया है। वहीं, भूस्खलन संभावित एंथोनियार कॉलोनी से रविवार को भी कुछ परिवार सुरक्षित स्थानों में स्थानांतरित किए जाएंगे। स्थानीय अधिकारियों ने कहा, 'शनिवार शाम को 30 परिवारों को स्थानांतरित कर दिया गया और अन्य को रविवार को स्थानांतरित कर दिया जाएगा।'

मुन्नार गांव के अधिकारी केवी झोंसन ने कहा, 'राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को सूचना मिलने के बाद सरकार के नेतृत्व वाले निकासी उपायों में तेजी लाई गई। परिवारों को माउंट कार्मेल ऑडिटोरियम में स्थानांतरित कर दिया गया।'

बता दें कि साल 2005 में 24 जुलाई को एंथोनियार कॉलोनी के छह निवासियों की भूस्खलन के कारण मौत हो गई थी। 2005 की आपदा के बाद अमृता संस्थान द्वारा प्रारंभिक आपदा चेतावनी प्रणाली की स्थापना की गई थी। यह सिस्टम भूवैज्ञानिक सेंसर और 10 वायरलेस सेंसर नोड्स द्वारा संचालित है।

स्थानीय निवासी माणिक्यन ने कहा, 'पेट्टीमुडी त्रासदी के दौरान भी पुल क्षतिग्रस्त हो गया था, जिससे पूरी बचाव प्रक्रिया धीमी हो गई थी। पुल का निर्माण पिछले साल किया गया, लेकिन यहां सड़क धंस गई है।'

हालांकि कई परिवार शुरू में स्थानानंतरण के इच्छुक नहीं थे क्योंकि उन्होंने शिकायत की थी कि उन्हें 2005 के भूस्खलन के बाद सरकार द्वारा वैकल्पिक भूमि पर बेहतर आवास सुविधाओं का वादा किया गया था, लेकिन अब तक कुछ भी नहीं किया गया है। इस बीच, मुन्नार-देवीकुलम मार्ग पर एक भूस्खलन की सूचना मिली और मुन्नार के पास अंतर-राज्यीय राजमार्ग में पेरियावरा पुल के पास एक सड़क टूट गई जिससे यातायात बाधित हो गया। केवल छोटे वाहनों को ही सड़क से गुजरने की अनुमति है और भारी वाहनों को ऐसा करने की अनुमति नहीं है। घटनास्थल का दौरा करने वाले देवीकुलम के विधायक ए राजा ने कहा कि बिना ट्रैफिक जाम के चीजों को सुविधाजनक बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

Edited By: Neel Rajput